लॉग इन करें
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

बुलीइंग के फ़ैक्ट्स

यहां वह सबकुछ है, जो आप बुलीइंग और बुलीज़ से निपटने के लिए जानना चाहते हैं…

Teentalkindia Counsellor 11th September, 2017

बुलीइंग क्या है?
किसी व्यक्ति या ग्रुप द्वारा एक कमज़ोर व्यक्ति या ग्रुप को नुक़सान पहुंचाना, भय पैदा करने के लिए फ़िज़िकल, सोशल या सायकोलॉजिकल एग्रेसिव बिहेवर करना बुलीइंग है।

बुली कौन है?
बुली शब्द की परिभाषा क्लास के ‘बड़े बच्चे' तक ही सीमित नहीं है, बल्कि ये पॉपुलर गर्ल्स और जॉक्स भी हो सकते हैं, जिनका इंटेशन विक्टिम को नीचा दिखाना होता है क्योंकि वे ऐसा कर सकते हैं।

बुलीइंग के प्रकार

वर्बल- जैसे अपमान, छेड़छाड़, नाम पुकारना 
फ़िज़िकल- जानबूझकर कोई चीज़ छीनना, वॉयलेंस जैसे हिट करना, लात मारना, ब्लॉक करना, पंच करना या ग़लत तरीक़े से छूना
सोशल और इमोशनल- कुछ करने से मना करने पर या यूं ही गाली देना और चिल्लाना।
सायबर-बुलीइंग- सोशल मीडिया (इंटरनेट) का उपयोग करके या टेक्स्ट मैसेज या सेल फ़ोन या दूसरी टेक्नोलॉजी के द्वारा किसी को हर्ट करना, डराना-धमकाना, एम्बैरेस करना, टार्गेट करना। 

बुलीइंग में क्या शामिल नहीं है?
एक बार हुई कोई घटना
किसी व्यक्ति को डिस्लाइक या इग्नोर करना
आपसी झगड़े, जहां दोनों (ग्रुप्स के) लोगों के बीच डिसएग्रीमेंट होता है।

बुलीइंग के प्रभाव
बुलीइंग का प्रभाव न सिर्फ़ विक्टिम बल्कि बुली और यह देख रहे लोगों पर भी पड़ता है। ओवरऑल नेगेटिव इफ़ेक्ट के साथ विक्टिम डरा हुआ और डिप्रेस्ड महसूस कर सकता है और स्कूल जाने से मना कर सकता है जबकि बुली और भी ज़्यादा अग्रेसिव हो सकता है।
और अधिक गम्भीर परिणामों में ग्रेड्स बिगड़ना और एकेडमिक इंट्रेस्ट कम होने के साथ ही उसके डिप्रेशन में जाने की आशंका भी रहती है।
बुलीइंग का कोई भी तरीक़ा दूसरे तरीक़ों से कम गम्भीर नहीं है और यदि ठीक तरह से और जल्दी इससे निपटा न जाए तो हर एक तरीक़े के कई गम्भीर परिणाम हो सकते हैं।

यदि आपको बुली किया जाता है तो आपको क्या करना चाहिए?

शांत रहिए और बुली को कोई भी रिएक्शन मत दीजिए।
अथॉरिटी को आगाह करना एक प्लान बनाने में और विशेष रूप से असुरक्षित क्षेत्रों में अपनी सहायता कैसें करें, इसमें मददगार हो सकता है।
किसी भरोसेमंद टीचर, स्कूल काउंसलर या पैरेंट से बात कीजिए।
जब लोग साथ होते हैं तब शक्ति और सुरक्षा अधिक होती है इसलिए बुली को अवॉइड करने के लिए ग्रुप में जाएं।

RECOMMENDED READSबातचीत में शामिल हों

VIEW MORE
कॉपीराइट टीनटॉक 2018-2019
डिस्क्लेमर : टीनटॉकइंडिया आपातकालीन सेवाएं नहीं प्रदान करता है और न ही यह किसी तरह की आपदा में हस्तक्षेप करने वाला कोई केंद्र है। अगर आप या आपका कोई मित्र या परिचित गहरे अवसाद के दौर से गुज़र रहा है, या उसके मन में आत्महत्या या स्वयं को नुक़सान पहुंचाने वाले विचार आ रहे हैं तो कृपया निकटस्थ अस्पताल या आपातकालीन/आपदा प्रबंधन सेवा केंद्र या हेल्पलाइन से सम्पर्क करें।