Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

वर्ल्ड सुसाइड प्रिवेंशन डे - हर जिंदगी है जरूरी

आइए समझें और जानें सुसाइड कैसे रोका जा सकता है ।

10 सितम्बर वर्ल्ड सुसाइड प्रिवेन्शन डे पर बात करते हैं इससे जुड़ी वो बातें जिन पर कभी चर्चा नहीं की जाती लेकिन जागरुक होने की जरूरत है। हर 40 सेकंड में एक इंसान अपना कीमती जीवन खो देता है। आइए समझें और जानें इसे कैसे रोका जा सकता है ।
किसी ने कहा है, ''अपना हाथ अपने दिल पर रखें, क्या आप इसे महसूस कर सकते हैं? यही उद्देश्य कहलाता है। आप एक कारण से जीवित हैं इसलिए कभी हार मत मानना।''



दुनियाभर में 10 सितंबर को सुसाइड प्रिवेंशन डे के रूप में मनाया जाता है। आज दुनियाभर के लोगों को एकजुट होकर समझने की जरूरत है कि सुसाइड को कैसे रोकें, अलग-अलग लोगों के लिए सुसाइड करने की वजहें अलग होती हैं ऐसा तब होता है जब वो नाउम्मीद हो जाते हैं और लगता है चीजों को वापस सुधारा नहीं जा सकता।
इस दिन ऐसी एक्टिवटीज कराकर लोगों को जोड़ने की जरूरत है जो सुसाइड रोकने के लिए लोगों में जागरूकता फैलाएं, लोगों को सुसाइड के बारे में शिक्षित करे और लोगों में सुसाइड पर चर्चा के डर को खत्म करें।  

आइए आत्महत्या से जुड़ें कुछ मिथकों को दूर करें उन्हें समझाएं और अलर्ट कर सकें

मिथक-  यह कहना गलत है कि जो लोग आत्महत्या के बारे में बात करते हैं वास्तव में वो ऐसा काम नहीं करेंगे। जो लोग आत्महत्या करते हैं वे बार-बार इसका कोई न कोई संदेश जरूर देते हैं। उन लोगों पर ध्यान देना चाहिए और नजर रखनी चाहिए। भले ही वो मजाक में कहें कि 'तुम्हें तब बुरा लगेगा जब मैं चला जाऊंगा' या फिर "मुझे कोई भी रास्ता नहीं दिख रहा"। इन सबका यही मतलब है कि वे लोग अंदर से बहुत दुखी हैं।

मिथक- जिसने भी खुद को मारने की कोशिश की वह जरूर पागल होगा। ज्यादातर लोग जो सुसाइड करते हैं मानसिक रूप से बीमार नहीं होते या किसी तरह की मानसिक बीमारी से जूझ रहे होते हैं। हो सकता है वो तनाव, बेचैनी, डर और डिप्रेशन से जूझ रहे हों।

मिथक-  आत्महत्या के बारे में बात करना किसी को ऐसा करने का आइडिया दे सकता है। वहीं, इसके उलट किसी ऐसे व्यक्ति के साथ आत्महत्या के बारे में बात करना जो इसके बारे में सोच सकता है, उन्हें यह बताने का एक सहायक तरीका होगा कि आप परवाह करते हैं और उनके स्वस्थ और जीवित रहने की उम्मीद करेंगे।

मिथक- जो लोग आत्महत्या करने के बारे में सोचते हैं या जो ऐसा करते हैं वो बहुत कमजोर होते हैं। नहीं, वे कमजोर नहीं होते हैं। वो बेहद कठिन और तनाव भरे समय से गुजर रहे होते हैं। उन्हें जरूरत होती है कोई आए और उन्हें इससे उबारे। कोई अगर जीवन खत्म करता है तो यह कोई आसान काम नहीं होता।

वर्ल्ड सुसाइड प्रिवेन्शन डे हमारे लिए एक कारण बन गया है कि ऐसे लोगों को सपोर्ट करें जो जीवन सुसाइड के बारे में सोचते हैं उन्हें इससे निपटना सिखाएं और जागरूक करें। लोगों से इसके बारे में बात करें ताकि उन्हें सुसाइड की जिस भावना ने जकड़ रखा है उसे तोड़ा जा सके।

लिए एकसाथ होने और उन लोगों का समर्थन करने का एक कारण बन सकता है जो जीवन के किनारे पर हो सकते हैं। एक दूसरे और समुदाय के साथ इसके बारे में बात करना इस कलंक से दूर ले जा सकता है। यह चिंता का एक कारण है जिससे निपटा जा सकता है।

अगर आप इसे पढ़ रहे हैं, तो दूसरों की मदद के लिए अपने हाथ आगे बढ़ाएं। अपने शब्दों की मदद से, देखभाल करके, सहानुभूति दिखाकर, आशा जगाकर, विश्वास करके, प्रशंसा करके उनकी मदद करें। उनके आंसू पोछकर सपोर्ट दें। जो भी संकट की घड़ी में हो उसे अपना साथ देकर उसे खुश रखने का प्रयास करें।

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


World Suicide Prevention Day – Every Life Matters

On World Suicide Prevention Day, let's talk about the unspoken and stigmatized topic of suicide and spread awareness about it. Every 40 seconds, one person loses his/her precious life. Let's acknowledge this fact and do something about it.

“Place your hand over your heart, can you feel it? That is called purpose. You’re alive for a reason so don’t ever give up.” – Anonymous.

September 10th is considered World Suicide Prevention Day across the globe. Today, we unite universally to understand and combat suicide as a consequence for so many different and difficult situations which may seem irreversible and hopeless. On this day, it’s important to engage in activities which aim at raising awareness that suicide is preventable, educate people about suicide, spread information about suicide awareness and reduce stigmatization about suicide.

People who wish to harm themselves or do so, do not necessarily desire to end their lives. They on the hind side are looking to rid themselves from the pain that may be making them feel helpless and hopeless. Sometimes situations can be very overwhelming and generate seemingly endless concerns. Human beings are programmed to face challenges in the form of fight or flight responses. Fight is when you see the situation in its eyes and remain resilient throughout the difficult time to overcome it. On the other hand, flight responses normally occur when dealing with a tough situation seems too daunting. Running away from that circumstance or simply denying its existence is one of the ways of coping with it.

Let’s look at some important misconceptions about suicide so that we can together clarify them and become a better and alert community.

Myth – People who talk about suicide won’t really do it. This is simply untrue because most people who attempt suicide, may have given some or the other warning sign. Listen and watch for these signs. Even if they are joking and say “you’ll be sorry when I am gone” or “I don’t see a way out”, could mean that they are feeling deeply upset about something.

Myth – Anyone who tries to kill him/herself must be crazy. Most people who attempt suicide may not be psychotic or going through any kind of mental illness. They may be grieving, depressed, stressed, anxious or afraid.

Myth – Talking about suicide may give someone the idea of doing it. On the contrary, talking about suicide with a person who may be contemplating it would be a supportive way of letting them know that you care and would hope to see them healthy and living.

Myth – People who think or do end their lives are weak. No. They aren’t weak. They are going through a much difficult and distressed time and need help to cope with it like any other human being. Ending one’s life is not a simple thing to do.

World Suicide Prevention Day can become a reason for us to become one and support those who may be on the edge but also let the world know that this is a cause of concern which can be dealt with. Talking about it with each other can take the power away from the stigma that suicide still holds.

If you are reading this, please go out there and offer a helping hand, kind words, support, a caring message, compassion, empathy, hope, faith, appreciation, acknowledgment, encouragement, pearls of wisdom, a listening ear, a shoulder to weep on, and/or anything  that anybody might need in a moment of distress. Remember to offer the same to yourself.

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.