लॉग इन करें
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

एसटीआई पर हमारी हैंडबुक

सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफे़क्शन (एसटीआई) के बारे में वो सब जो आप जानना चाहते हैं…

एसटीआई क्या है? 
एसटीआई एक सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफे़क्शन है, जो कि सेक्शुअल संपर्क में आने के कारण फैलता है। इसमें वेजाइनल इंटरकोर्स, एनल और ओरल सेक्स शामिल हैं। कंडोम का उपयोग न करने पर इसके होने की आशंका बढ़ जाती है। 

इससे कौन प्रभावित होता है?  
पुरुष और महिलाएं दोनों ही एसटीआई के लिए अतिसंवेदनशील होते हैं, खासकर 15 से 24 साल की उम्र के बीच की महिलाओं के इससे ग्रसित होने की आशंका सबसे ज्यादा रहती है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में एसटीआई को पहचानना ज्यादा आसान है।

एसटीआई के लक्षण क्या हैं? 
एसटीआई के अलग-अलग प्रकार में अलग-अलग लक्षण होते हैं। इनमें सबसे सामान्य दर्द के साथ फोड़े, घाव या जेनाइटल डिस्चार्ज हैं। कई बार इंफे़क्शन होने के बाद भी कुछ लोगों में लक्षण तब तक नज़र नहीं आते हैं, जब तक कि टेस्ट नहीं कराया जाता है।

एसटीआई कितने तरह की होती हैं, और क्या उन सभी को ठीक किया जा सकता है? 

सबसे सामान्य एसटीआई ये हैं : 

ह्यूमन पैपिलोमावायरस (एचपीवी) - वे टीनएज गर्ल्स, जो कि अनसेफ़ सेक्स करती हैं, उन्हें यह समस्या सबसे अधिक होती है। यह जेनाइटल एरिया में छोटे मसे या गांठ के रूप में दिखाई देता है। यदि सर्वाइकल कैंसर होने की आशंका है, तो एचपीवी का पता पैप स्मीयर या कोलपोस्कोपी से लगा सकते हैं। एचपीवी से बचाव के लिए वैक्सीनेशन करवा सकते हैं। 

क्लैमाइडिया - बैक्टीरिया के कारण, यह मुंह या गले में और जेनाइटल पार्ट पर भी दिखाई देता है। यूरिन करते समय जलन होना और एनल डिस्चार्ज इसके संकेत हैं। इसका इलाज एंटीबायोटिक्स से किया जा सकता है, लेकिन इसके दोबारा होने की आशंका भी बहुत अधिक रहती है। 

सिफ़लिस - यह इंफे़क्शन कई स्टेज में होता है और अगर समय पर इसका पता न लगाया जाए और इलाज न किया जाए तो गंभीर समस्या हो सकती है। इंफे़क्शन की जगह पर दर्दरहित घाव हो जाते हैं। ये घाव म्यूकस मेमबरेन्स विकसित कर लेते हैं, और शरीर के अन्य भागों में भी फैल सकता है, जैसे कि हथेलियों में। यह लिम्फ़ नोड्स में सूजन और बुखार के साथ हो सकता है। गंभीर मामलों में, यह हृदय और मस्तिष्क को प्रभावित कर सकता है। एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग उपचार के लिए किया जाता है।  

हरपीज़ सिंप्लेक्स वायरस - होंठों पर, मुंह के अंदर और जेनाइटल एरिया में फफोले के रूप में दिखाई देता है। इससे दर्दनाक घाव फूट सकते हैं और नए घाव हो सकते हैं। यहां तक ​​कि यह किस, ओरल और एनल सेक्स से भी फैल सकता है। इस वायरस का कोई इलाज नहीं है।

गोनोरिया - इसके कारण और लक्षण सिफ़लिस की ही तरह हैं और सही दवा ली जाए तो इसका इलाज किया जा सकता है। 

कॉन्ट्रैक्टिंग सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफे़क्शन के ख़तरे को सेफ़ सेक्स (कंडोम का उपयोग करके), अनेक सेक्शुअल पार्टनर से दूर रहकर और जो व्यक्ति अभी एसटीआई से पीड़ित हो या जिसकी एसटीआई की हिस्ट्री हो, उसके साथ सेक्स न करके कम किया जा सकता है।

यदि आपके पास भी हमसे शेयर करने के लिए कोई कहानी है तो हमें यहां , ईमेल करें

यदि आपके पास कोई सवाल हैं, तो हमें यहां , ईमेल करें

आप क्लिक करके काउंसलर से भी बात कर सकते हैं टीनटॉक एक्सपर्ट चैट.

Comments

अगली कहानी


Ritika SrivastavaTeentalkindia Counsellor

यदि आपके पास भी हमसे शेयर करने के लिए कोई कहानी है तो हमें यहां , ईमेल करें

यदि आपके पास कोई सवाल हैं, तो हमें यहां , ईमेल करें.

आप क्लिक करके काउंसलर से भी बात कर सकते हैं टीनटॉक एक्सपर्ट चैट.

टिप्पणियाँ

कॉपीराइट टीनटॉक 2018-2019
डिस्क्लेमर : टीनटॉकइंडिया आपातकालीन सेवाएं नहीं प्रदान करता है और न ही यह किसी तरह की आपदा में हस्तक्षेप करने वाला कोई केंद्र है। अगर आप या आपका कोई मित्र या परिचित गहरे अवसाद के दौर से गुज़र रहा है, या उसके मन में आत्महत्या या स्वयं को नुक़सान पहुंचाने वाले विचार आ रहे हैं तो कृपया निकटस्थ अस्पताल या आपातकालीन/आपदा प्रबंधन सेवा केंद्र या हेल्पलाइन से सम्पर्क करें।