Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

टीनएज में पीरियड्स को न बनने दे रूकावट

पीरियड्स में कुछ लड़कियों को काफी तकलीफ होती हैं, जानिये ऐसा क्यों होता है
Richa DubeyContent Writer

पीरियड्स के मुश्किल दिन कुछ टीनएसर्ज लड़कियों के लिए तो मुश्किल नहीं होते लेकिन कुछ के लिए ये काफी तकलीफदेह साबित होते हैं। इन दिनों में तेज पेट दर्द, ऐंठन और कमर में दर्द जैसी समस्याओं से उन्हें गुजरना पड़ता है। हालांकि ये दर्द पीरियड्स के पहले 2 दिनों में ज्यादा रहता है। ये इतना तेज रहता है कि कई लड़कियों को स्कूल और जरूरी इवेंट्स छोड़ने पड़ते हैं।
 


मासिक दर्द और तकलीफ की वजह
इसकी वजह प्रोस्टाग्लैंडीन नाम का केमिकल होता है। पीरियड्स के दौरान ये केमिकल गर्भाशय की मांसपेशियों के संपर्क में आता है और इसी से दर्द उठता है।  

पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द को PMS (Premensrual syndrome) समझने की गलती नहीं करना चाहिए। पीएमएस पीरियड्स के कुछ दिन पहले से मिलने वाले संकेत होता है, जिसमें आमतौर पर चिड़चिड़ापन, सिरदर्द और जरूरत से ज्यादा खाना या मीठा खाना शामिल होता है। पीएमएस पीरियड्स शुरू होते ही ठीक भी हो जाता है। लेकिन मासिक दर्द इससे कहीं ज्यादा तकलीफदेह होता है। कई बार पहले दिन ये बदतर साबित होता है।

मासिक दर्द 2 तरह का होता है:
प्राइमरी: किशोरावस्था में जब लड़की को पहली बार पीरिएड्स होते हैं उस दौरान मासिक दर्द का सामना करना पड़ता है। ये समस्या आम होती है।
सेकेंडरी: पीरियड्स के दौरान दर्द होना कई बार आम नहीं होता है। कुछ मामलों में देरी से पीरियड्स का आना, अन्य स्वास्थ्य समस्याएं और संक्रमण की वजह से भी मासिक दर्द से गुजरना पड़ता है।

इन वजहों से दर्द की समस्या होती है

  • कम उम्र में माहवारी शुरू होना
  • लंबे वक्त तक माहवारी चलना और ज्यादा ब्लीडिंग होना
  • परिवार में किसी महिला को भी मासिक दर्द की समस्या रही हो (जेनेटिक)

हर टीनएजर लड़की में अलग-अलग होते हैं दर्द के लक्षण, जैसे-

  • पेट के निचले हिस्से में दर्द और ऐंठन
  • कमर में दर्द
  • पैरों में दर्द होना
  • जी मचलाना
  • उल्टी होना
  • दस्त होना
  • थकान महसूस होना
  • कमजोरी आना
  • चक्कर आना या बेहोशी छाना
  • सिरदर्द होना

मासिक दर्द से कैसे पाएं छुटकारा

  • हेल्दी डाइट लें
  • पूरी नींद लें
  • रोज व्ययाम करें
  • गर्म पानी के बैग से पेट के निचने हिस्से में सिंकाई करें
  • गुनगुने पानी से नहाए
  • एक्यूपंक्चर
  • पेट की निचले हिस्से की मसाज करना

अगर इनमें से किसी भी तरह समस्या कम नहीं होती है तो आइबूप्रोफेन दवा ली जा सकती है। लेकिन इसे भी डॉक्टरी सलाह के बाद ही लें। इसके अलावा, यह समझने के लिए कि आपके लिए सबसे अच्छा क्या काम करता है, पीएमएस के संकेतों को समझें और आपको कितनी बार मासिक दर्द का सामना करना होता है ये भी समझें। इसके लिए एक डायरी बनाएं और मासिक अवधि का ध्यान रखें। एक अवधि डायरी बना सकती हैं। इसके अलावा आजकल कई माहवारी के हिसाब-किताब के लिए कई ऐप्स भी उपलब्ध हैं जो माहवारी सायकल को मैनेज करने में मदद करते हैं। 

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


Roller – Coaster of Emotions during Puberty

Emotional changes are an integral part of transitioning from childhood to adulthood during the phase of puberty. These are often interrelated with physical changes

Puberty is not just a milestone for physical changes. This phase of life also enables teenagers to embark upon multiple mental, social and psychological changes, This period is a very important time for all of us as we grow and experience the world and ourselves in different ways and through different lenses.

Emotional development is rapid  during puberty which is also interrelated with the physical and social changes occurring. Teenagers may find this time to be challenging and overwhelming because coping with all these different types of changes is not simple. It’s important to have essential information during this time which can be provided by parents, schools, peers and caregivers.

Here are some emotional and psychological changes to keep an eye out for in yourself and others.

  1. Increased moodiness and irritability due to increased hormonal rates in the body

  2. Physical appearance can also lead to feeling sensitive and upset from time to time causing self-criticism and low self-esteem

  3. Feeling angry or disconnected with family members and feeling more connected and atuned with peers and friends as they may also be experiencing similar physical, emotional, social and psychological changes which makes it easy to relate with them and vice versa

  4. Peer pressure can also lead modifying likes and dislikes based on what’s ‘in’ and what’s ‘out’ which may be uncomfortable to cope with as they may vary from your base beliefs and values inculcated by family and culture

  5. The need to try different things can also cause emotional imbalance as it may come from a place of wanting to ‘fit in’ which also may be uncomfortable and daunting

  6. Feelings of rejection are very evident during this time as teens engage in social interactions which can be responsible for feelings of lack of self-worth, guilt, shame and likewise

  7. It’s natural for people to grow differently which also may create self-doubt and consciousness about self and question the process of growth and development and whether things are ‘normal’ or not

Puberty is such a rocky road transition from adolescence to adulthood. This also means taking on different responsibilities and think about areas of life which were otherwise absent until now, like career, further education, relationships, marriage, morals, opinions and likewise. It’s okay to feel overwhelmed in the midst of these changes and father as much information as you can. Talk to someone you trust and ask plenty of questions. Support yourself and your peers as they may also be going through a tough time.

As daunting as this phase might be, remember, it will end and you will evolve to a more stable and manageable life.

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.