Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

कैसे अपने दोस्त को न कहें

आपके दोस्त क्लास बंक करने के लिए या ड्रिंक करने के लिए कहते हैं तो उन्हें कुछ खास तरीके से मना किया जा सकता है।

कई बार दोस्तों के फोर्स करने पर हम ऐसी स्थिति में पहुंच जाते हैं जहां नहीं होना चाहिए। अगर आप भी ऐसी स्थिति से गुजरे हैं तो अब उन्हें न कहने की आदत डालें। जब आपके दोस्त क्लास बंक करने के लिए या ड्रिंक करने के लिए कहते हैं तो उन्हें कुछ खास तरीके से मना किया जा सकता है।

स्मार्टली हैंडल करें : जब दोस्त क्लास बंक करने के लिए कहें तो आप उनसे कहें कि मुझे अल्जेबरा के समीकरण समझने हैं।
एक जर्नलिस्ट की तरह रहें: जब वो आपसे सिगरेट पीने के लिए कहते हैं तो उनसे सवाल करें कि 'आप क्यों स्मोकिंग करते हैं?' या पूछें 'आपकी सांसों से मरी हुई मछली की बदबू आ रही है और क्या आप इसके साथ खुश हैं'।
पेरेंट्स का हवाला दें: मैं इस उम्र में ब्वॉयफ्रेंड के साथ घूमने जाउं, यह मेरे मां को पसंद नहीं या मैं किसी तरह का हेयरकट करवाउंगी तो मेरे पापा सजा देंगे। दोस्तों को इस तरह के एक्सक्यूज दें।
बडी सिस्टम को अपनाएं : ऐसे दोस्त भी बनाएं जिनकी पसंद-नापसंद आप जैसी हो। ऐसे में अगर आप वेजीटेरियन हैं और दूसरे दोस्त चिकन खाने के लिए दबाव बनाते हैं तो वह दोस्त आपका सपोर्ट करेगा। इस तरह आप एक-दूसरे का सपोर्ट कर पाएंगे।
नो का मतलब आप जानते हैं : दोस्तों का न कहते हुए सीरियस रहें ऐसा आपके चेहरे से भी लगना चाहिए। आपके कोई दोस्त टीचर के कमरे से क्वेश्चन पेपर चुराने को कहता है तो सीधे न कहें।
न कहना सीखें : आप इंट्रेस्टेड नहीं है तो सीधे न कहें। उदाहरण के लिए ऐसे समझें, आपके कुछ दोस्त फिल्म देखने के लिए जा रहे हैं और दूसरे दोस्तों ने आपको क्रिकेट खेलने के लिए बुलाया है तो एक ग्रुप को मना कर सकते हैं।
न कहने का पॉजिटिव तरीका सीखें : अगर आपके दोस्त आपको स्मोकिंग करने के लिए कहते हैं तो उन्हें कह सकते हैं कि मुझे अपना ब्रेन पसंद हैं मैं उसकी कोशिकाओं को डैमेज नहीं पहुंचाना चाहता।
महान शख्सियत के विचार रखें: न करने के लिए किसी बड़ी शख्सियत के विचारों का प्रयोग भी किया जा सकता है। जैसे वारेन बफेट कहते हैं, सफल और वाकई में सफल इंसानों में फर्क होता है कि असल जिंदगी में सफल होने वाले लोगों को हर चीज के लिए न कहने की आदत होती है।
मैं यूनिक हूं : अगर आपके दोस्त आपका भी हेयरस्टाइल उनके जैसा रखने के लिए कहते हैं तो उनसे कहें आप पहले से यूनिक हैं, यूनिक लोग ही ट्रेंड शुरू करते हैं किसी को फॉलो नहीं करते।
नया तरीका ढूंढें : ऐसी कल्पना करें और उन्हें मना करने का कोई नया प्लान बनाएं। अगर आप ड्रामा करने में माहिर हैं तो सही समय आने पर अपनी उस खूबी का इस्तेमाल भी करें। 

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


Positive side of Peer pressure

Peer pressure is a huge part of a teenager’s life. No teen can claim that they have not experienced peer pressure ever.

Whether you are a teenager or a tween, peer pressure is unavoidable. What’s also important is that peer pressure affects our output and life in general. At some point in life, we deal with peer pressure as we feel the need to follow the crowd and do things just because others are doing it. This is especially the case with teenagers because they are easily influenced by their surroundings and the people around them.

Until now we’ve only heard of peer pressure as something negative and destructive. However, the truth is, many recent researchers have concluded that peer pressure can be positive as well and that in certain conditions peer pressure can inspire a teenager to be more productive and determined.

Teenagers have a tendency to follow the crowd. Usually, it is the peer pressure that leads them to start smoking and drinking. It is a struggle for teens and their parents to figure out ways of dealing with peer pressure. What we need to understand here is that peer pressure in the right environment can work for the benefit of teenagers.

As per research, if properly harnessed, peer pressure can motivate us to stay focused and work harder towards achieving our goals. A classic and real-life example of positive peer pressure is that of a student who works hard to get better grades because his friends are getting good grades.

Positive peer pressure can help you reflect on the way you act and change them to become a better person. When you notice others working hard to achieve their aims, you will surely be encouraged to strive towards achieving yours. You put more effort and time in your plan of success when you see others preparing for theirs as well.

Also having a group that has a positive impact on you can help you give up on bad habits and pick up healthy ones, and this will help you be a better person and polish your personality.

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.