Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

एक अच्छी दोस्त है डायरी

हमारी लाइफ में ऐसी कई बाते और परेशानियां हो सकती हैं, जिन्हे हम बता नहीं सकते या शेयर नहीं करना चाहते। ऐसे में सबसे अच्छा तरीका है डायरी लिखना। डायरी किस तरह एक दोस्त बन सकती है, आइए जानते हैं -

ऐनी फ्रैंक की लाइफ  इनकम्प्लीट होती, यदि उसे डायरी का सहारा न होता। पहले उसने अपना डर और परेशानी अपनी मदर से शेयर करने की सोची, लेकिन अगले ही दिन डायरी लिखने का फैसला किया। कुछ ही समय बाद  डायरी उसकी एक बेस्ट फ्रैंड  बन गई, जो अपना कोई जजमेंट नहीं देती। एक ऐसी फ्रेंड जिसके पास पैशेंस है। वह कभी आपकी लाइफ स्टोरी के बारे में नहीं पूछती। डायरी के पेजों  ने उसकी फीलिंग्स और इमोशंस को अपने तक  ही रखा। डायरी उसके लिए मुसीबत से निकलने का एक जरिया और एक कीमती रत्‍न के समान बन गई।

क्या होता है  डायरी लिखने से -

1. इससे स्ट्रेस कम होता है

साइकोलोजिस्ट का मानना है कि राइटिंग करने से या मन के विचारों को कागज या डायरी में लिखने से स्ट्रेस कम होता है। इस तरह डायरी दुख और परेशानी से राहत पाने का  एक अच्छा जरिया  है।

2. राइटिंग स्किल डेवलप होती है

केवल परेशानी के वक़्त ही नहीं,  कई लोगों को लिखने का  भी शौक होता है, जैसे वे छोटी-छोटी बिना लय या तुकबंदी की कविता, कहानी लिखना शुरू  करते  हैं और आगे चलकर वे बड़े राइटर भी बन सकते हैं।

3. माइंड कूल होता है

प्रोफेसर और साइकोलोजिस्ट मैथ्यु लिबरमैन ने 20 लोगों पर एक एक्सपेरिमेंट किया, उन्होंने उन्हें 20 मिनट में अपने चार  दिनों के बारे में लिखने को कहा। उसके  बाद  उनके ब्रेन को स्कैन किया। उनमे से आधे लोगों ने अपने इमोशंस और थॉट्स लिखे, इससे उनके दिमाग को शांति मिली और  उन्होंने बेहतर महसूस किया।

4. इमोशंस ट्रेस करने में हेल्प होती है  

हर्ष भागवत जो एक मीडिया प्रोफेशनल हैं, कहते हैं कि जब मैं अपने अच्छे या बुरे अनुभव को पेपर पर लिख लेता हूं, तब अपने आप को काफी कूल महसूस करता हूं। मेरा अकेलापन भी दूर होता है। इस तरह किसी भी स्ट्रेस का सॉलूशन वे डायरी लिखने को मानते हैं। उनका यह भी कहना है कि राइटिंग आपके इमोशंस को अच्छी तरह समझने में हेल्प करती है और आपके माइंड में क्या चल रहा है यह भी बताती है। एक बार आप उसे दोबारा पढ़कर देखें जो आपने स्ट्रेस के समय कभी लिखा था, आप अपनी उस समय की सिचुएशन को अच्छी तरह समझ पाएंगे। यही वजह है कि हर्ष चाहे कितने भी बिजी क्यों न हों, अपने बिजी स्केडुल में  से लिखने के लिए दस मिनट का समय वे निकाल ही लेते हैं। 

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


5 ways to recover quickly from life’s hardships

According to research, resilience leads to greater happiness, more success and better health. Here is how you can cultivate it!

Hardships often prepare ordinary people for an extraordinary destiny. – C.S. Lewis

This quote by Lewis, who is a British poet and author, suggests that hardships can be difficult in the short-term, but it does have significant results in the long-term. When someone endures hardship, they have the capacity to bounce back sooner or later. However, how soon an individual returns back to their normal life is determined by how resilient that individual is.

Resilience is the capacity to recover quickly from hardships. The good news is that resilience can be cultivated. It might take time and effort, but it is one of those tools that if you cultivate, you can benefit from it for a lifetime.

Hardship can be failing in an exam, losing a loved one, changing schools or countries, recovering from an illness, and many more. According to research, resilience leads to greater happiness, more success and better health.

Here are some ways to build resilience:

1.Learn from failure: Treat every failure as a stepping stone to success. It took Thomas Edison ten thousand failed attempts to finally get the physics of the light bulb right. Edison once remarked, “I failed my way to success.” According to Teentalk Expert Kshitija Sawant, “the ability to look at the bigger picture, stay focused and not give up, enables one to look past failures and move on.”

2.Focus on your strengths: Writer Tal Ben-Shahar who teaches positive psychology writes in his book ‘Choose The Life You Want’ that individuals who invest in their strengths are happier and more successful. Some questions to ask yourself are:

  • What are my strengths?
  • What am I naturally good at?
  • Where do my talents reside?
  • What are my unique abilities?

3.Self-compassion is key: If your friend failed in an exam, would you call him a failure or offer support? In most cases, you would offer support. Hence, this attitude should be applied to ourselves as well. If we make mistakes or do not meet our expectations, instead of criticising ourselves, maybe we can learn to be compassionate?

4.Humour: Do not take yourself too seriously. In moments of doubt and sadness, inject humour. Do not feel bad to laugh or smile. As they say, laughter is the best medicine. Watch your favourite TV show or follow the stand-up comedian who cracks you up.

5.Focus on successes: Sometimes, we tend to focus on past failures more as compared to past accomplishments. This creates a distorted view of reality. Pat yourself on the back when you do a small thing right. Remember your achievements and moments when you succeeded.

Lastly, resilient people realize that they have the power to shape their own lives, writes Sheryl Sandberg in her book Option B.

If you have a query, you can write to the Teentalk India Expert at [email protected]

 

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.