Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

जानिए कैसे इन 5 सुपरहीरो ने अपनी कमियों को खूबी बनाया

सुपरहीरो! क्या वाकई में ये कैरेक्टर्स आश्चर्यजनक हैं? जानिए ऐसे सुपरहीरो जिन्होंने अपनी पीड़ा को अपनी महाशक्तियों में बदल दिया...

 हर किसी का अपना एक फेवरेट सुपरहीरो होता है। लेकिन कभी सोचा है कि सुपरहीरोज को उनकी पावर कहां से मिलती है?

वे जीवन में बुरे लोगों से लड़ने का विकल्प चुनते हैं। वे बुरी आत्मा से लड़ते हैं। हमारे सुपरहीरोज में एक चीज समान है - वे अपनी सच्चाई लोगों से छुपाकर रखते थे। वे सभी अपनी भावनाओं और परेशानियों को छुपाकर रखते थे। उन्होंने अपनी कमजोरियों और नकारात्मकता को अपनी शक्ति में तब्दील किया।

हम आपको 5 सुपरहीरोज के बारे में बता रहे हैं जिन्होंने अपनी बुराइयों को अपनी ताकत बनाया

बैटमैन - ब्रूस वेन
यह हम सबका सबसे पसंदीदा इंसान है। ब्रूस वेन यानी बैटमैन काफी कम उम्र में अपने माता-पिता को खो देता है, उसे इस बात से काफी दुख पहुंचता है। वो इस दुख में डूबने की बजाए खुद को इस दर्द से बाहर निकालता है। वो अपने दुख और पीड़ा को न्यू यॉर्क शहर की बुराई से बचाकर कम करता है।
काउंसलर टिप - अगर आप गहरा दुख और दर्द महसूस कर रहे हैं तो इस समस्या से आसानी से बाहर निकला जा सकता है अगर आप खुद को इसकी अनुमति दें तो। आप अपनी जिंदगी के मकसद को ढूंढे और उसे पूरा करने की ओर आगे बढ़ें।
सुपरमैन - क्लार्क केंट
सुपरहीरोज की दुनिया में सुपरमैन की कहानी सबसे दिलचस्प है। क्रिप्टन ग्रह पर जन्मे, सुपरमैन को अपने परिवार और अपने ग्रह को छोड़कर पृथ्वी पर आना पड़ता है। उसे एक नई दुनिया में फिट होना पड़ता और बिना किसी मदद के वापस अपने घर जाने का रास्ता ढूंढना पड़ता है। भले ही वो अपनी सुपरपावर्स में कभी भी फिट नहीं बैठ पाया और हमेशा ही दो अलग-अलग दुनिया के बीच झूलता रहा। लेकिन अपने नए घर की बेहतरी के लिए शक्तियों का इस्तेमाल करना चुना और इनसे निपटना भी सीखा।
काउंसलर टिप - पूरी तरह से सुखी जीवन जैसी कोई चीज नहीं है। हमारे पास जो कुछ है, हम उससे सीखते हैं, तो कई असमानताओं के बीच हल निकालना सीख जाते हैं।

स्पाइडरमैन - पीटर पार्कर
स्पाइडरमैन ने काफी कम उम्र में अपने माता-पिता को खो दिया था। पार्कर अपने इस दुख के साथ जीना सीखते हैं। लेकिन कुछ लोग उनका मजाक उड़ाकर उन्हें दुख पहुंचाने की कोशिश करते हैं। पार्कर को साइंस में रुचि रहती है लेकिन वह एक शौकिया फोटोग्राफर के रूप में काम करते हैं। यहां भी उन्हें परेशान किया जाता है। लेकिन यहीं वो एक मजबूत इंसान बनता है। उसके सिद्धांत उसे और भी मजबूती देते हैं।
एक मकड़ी से काटे जाने और उसकी शक्तियों को हासिल करने के बाद अपनी शक्तियों का इस्तेमाल उसे परेशान करने वालों और बुरे लोगों के खिलाफ करता है।
काउंसलर टिप - इस बात को समझें कि जो लोग दूसरों को परेशान करते हैं असल में वो खुद इसका शिकार हो चुके हैं। ये वे लोग होते हैं जो किसी से सही ढंग से पेश नहीं आ सकते और ना ही अपनी परेशानियां किसी को बता सकते हैं। इसलिए ऐसे लोगों को माफ करना सीखें और अपनी जिंदगी को सकारात्मकता के साथ देखें। ये हर मुश्किल को आसान बना देगा।
वुल्वरिन - ह्यू जैकमैन
वुल्वरिन का जन्म कुछ अद्भुत शक्तियों के साथ हुआ है। उसके हाथों के पिछले हिस्से से लोहे के पंजे निलते हैं। सरकार उसे उसके पंजों के लिए परेशान करती है। वुल्वरिन को इन सबसे काफी दुख पहुंचता है। वह एक ऐसा व्यक्ति बनाता है जो दूसरों के दुख दूर करता है। सभी नकारात्मकता के बावजूद, वुल्वरिन दुनिया को बचाता है।
काउंसलर टिप - कभी-कभी, जो लोग अत्यधिक पीड़ित होते हैं, उन्हें पूरी तरह से ठीक होने के लिए खुद को अलग करना पड़ता है।

हल्क - ब्रूस बैनर
हल्क एक प्यारा सा हरे रंग का इंसान है लेकिन गुस्सेवाला भी है। जब वह बच्चा था तो उसे परेशान किया जाता था। हल्क अपने शराबी पिता के जरिए काफी प्रताड़ित किया जाता था। उसके पिता उसके साथ मार-पीट करते थे। इसी का नतीजा था कि हल्क गुस्से वाला शख्स बन गया। हल्क ने अपने गुस्से को बुरे लोगों पर निकालना शुरू किया। उसे इसका इस्तेमाल लोगों की भलाई के लिए करना शुरू किया।
काउंसलर टिप - दुर्व्यवहार के अप्रिय अनुभव से सीखें। हालांकि अंत में गुस्सा या परेशान होना स्वाभाविक है, आप उन भावनाओं का आकलन करते हैं जो आपके जीवन की गुणवत्ता को निर्धारित करती हैं।

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


We Grow with Grief – Coping with the loss of a Parent

Grieving the loss of a parent is not just about sadness. It's beyond what a human being can fathom and articulate in words. Feelings and thoughts of pain, anger, hoplessness, helplessness, denial, shock and likewise can fill you up. Coping with grief is a journey of healing and takes time to recuperate from.

“Grief is the price we pay for love." – Queen Elizabeth II

A parent-child relationship is one of the most sacred and fundamental relationships recognized today. No matter what the relationship may look like, a parent and child may hold deep love and affection towards each other. When we love someone immensely, even the thought of losing them can be eternally terrifying.

The loss of a parent doesn’t only leave people feeling lost and alone, it also creates a physical vacuum in your proximal space (if you lived with them). The relationship we share with parents remains incomparable and is one of the most sacred unions. Parents not only give us birth but also help us grow and develop as individuals and protect us from all that’s negative. Nature and nurture both involve parents primarily and then further other people.

Experiencing Grief in 5 Stages

Loss of a parent can be one of the harshest experiences to cope with at any given age. Grief becomes an ongoing part of our lives and travelling through this journey of healing may take several turns as we go forward in it. Grief itself can be understood in five stages. It may start with denial which causes the survivor of loss to feel shock, numb and find everything around to be meaningless. Further, one may move to the state of anger which disguises other emotions. When the loss feels unfair, we turn to anger and question the sanctity of the universe, God, medicine, or anything that seems to play an important role in keeping humans safe and alive. Bargaining is the next stage where a person may find him/herself in the “what if… then I will”, or “if only…” situations where they try to hope that if they do something for someone, their loved one might return and life will continue normally. Next, we may move to depression which feels like this pain and despair may never end. This should not be confused with a mental illness as it’s a response to grief and loss. It involves people withdrawing from surroundings, and refraining from taking care of themselves. It feels like the worst feeling a human can feel. The final stage is acceptance which does not mean that we are okay with the loss or are completely fine now. It only means that at this point, we are ready to cope with the loss and live our lives as normally as we can. It can still involve feelings of sadness and pain but it also makes you look at the present situation realistically.

Coping is a Process… Not a Destination

There is no one particular list of things to do to cope with the loss of a parent. This loss can be so intense that sometimes no intervention may seem effective and that’s okay. Grief is a process and needs time to heal. Following are some things we can do to take care of ourselves when experiencing grief and battling the void left by a diseased parent.

Lonely woman missing her boyfriend while swinging in the park royalty-free stock photo

  1. Seek support from others and build a support system which will help you keep away from isolation and spiralling in the grief by yourself. Spending time with one or two trusted friends or family members can assist you in the process of healing and sharing your pain with them.

  2. Prioritize basic needs of your body and mind like eating, sleeping, keeping a consistent routine since grief can be so consuming that we may often neglect our health which may lead to further concerns.

  3. On special days related to parents, like birthdays, mother’s/father’s day, anniversary, try to do something in their memory and don’t hold back feelings of sadness and emptiness. Their absence can be painful and that’s okay. Feel what you need to.

  4. Try to make a list of things you enjoy doing as during this time, you can go back these activities and do one a day.

  5. Seeking professional help from a counsellor/therapist can be very useful. They are trained to assist you in this process and help you find strategies and tools to work through your grief.

  6. Celebrate one thing your parent/s enjoyed doing like food, visiting a place, doing a particular activity and likewise, each day or as often as you can. This will help you stay connected to them and their memories.

  7. Practice self-compassion and kindness and allow yourself to express your true feelings for as long as you need.

  8. Write a letter to your parent/s expressing how you feel about them, in their absence and what you intend to do moving forward.

  9. Take frequent walks in nature and stay connected to sunlight and water.

Grief is not just about sadness. it’s a combination of multiple feelings and thoughts. As difficult as might be, trying to take care of you by doing different and nurturing acts towards yourself can be refreshing and relieving. Remember, you are never alone in travelling this journey of pain and discomfort. Let time do it’s needful while you turn your attention and kindness inwards.

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.