Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

सपने से जुड़े कुछ फैक्ट्स

सिगमंड फ्रायड के अनुसार, सपने हमारे अंदर छुपे इमोशन्स और इच्छाएं होती हैं जो हमारे अनकॉन्शियस माइंड में रहती हैं।

सोते हुए जो कुछ हम बंद आंखों से देखते हैं वही सपना है। यह दो घंटे की नींद के दौरान भी देखा जा सकता है। ऐसी कई थ्योरी हैं जो सपनों के बारे में बताती हैं कि कैसे ये काम करते हैं। उनमें से सबसे कॉमन है सिग्मंड फ्रायड की थ्योरी जो सबसे ज्यादा इंसानों से कनेक्ट करती है। इसे सबसे ज्यादा लोग मानते हैं।

सिगमंड फ्रायड के अनुसार, सपने हमारे अंदर छुपे इमोशन्स और इच्छाएं होती हैं जो हमारे अनकॉन्शियस माइंड में रहती हैं। कुछ दूसरी थ्योरी स्पष्ट करती हैं कि सपने तब होते हैं जब मस्तिष्क कई तरह की जानकारियों को इकट्ठा करता है और किसी समस्या का समाधान करने के लिए उसे मेमोरी में तब्दील करता है।



हमारे जीवन का इम्पोर्टेंट हिस्सा हैं जो हमारे अंदर कई जिज्ञासाएं पैदा करते हैं। सपनों का नेचर अलग-अलग तरह का होता है, जैसे ये गुस्सा दिलाते हैं, हमारी असफलता से जुड़े हैं और खुशियों के बारे में बताते हैं। इसके अलावा अच्छे भविष्य का आइना दिखाते भी दिखाते हैं। ये हमें खुश रहने के लायक बनाते हैं। लेकिन इनमें से ज्यादातर सपने सुबह उठने पर याद नहीं रहते।

आइए सपने से जुड़े कुछ फैक्ट्स के बारे में जाने-

1. अक्सर हमारे सपनों में उनके चेहरे आते हैं जिन्हें हम जानते हैं। हमारा दिमाग सपने में नए चेहरे क्रिएट में असमर्थ होता है। आप उन सभी चेहरों को नहीं पहचान सकते जिन्हें आपने देखा है, लेकिन हो सकता है कि आप अपने जीवन उनसे कभी मिले हों।
2. ऐसा कहना थोड़ा अजीब है लेकिन जगे होने की अपेक्षा आपका दिमाग सोते समय ज्यादा एक्टिव होता है। आपका दिमाग आपकी समस्याएं सुलझाने में, उन्हें याद करने में मदद करता है और उठने पर वो सभी जानकारी एकत्र करके देता है जो आपने सपने में देखी थी।
3. पुरुष और महिलाएं दोनों ही अलग तरह के सपने देखते हैं। जैसे, पुरुष दूसरे पुरुषों के बारे में अधिक सपने देखते हैं बल्कि महिलाएं दोनों के सपने देखती हैं। पुरुषों के विपरीत महिलाएं ज्यादा लंबे सपने देखती हैं।
4. सपने अक्सर इस बात का प्रतीक होते हैं कि आपके जीवन में क्या हो चुका है या क्या हो सकता है। सपने अधूरी इच्छा, डर, विचार, इमोशन्स की ओर इशारा करते हैं।
5. सपने आपकी परेशानियों को खत्म भी कर सकते हैं और हो सके तो नए अंदाज में उनका हल भी निकाल सकते हैं।

सपनों को याद करने के लिए क्या करें-
1. रोज एक ही समय में सोना और उठना शुरु करें।
2. कम से कम 7 से 9 घंटे की अच्छी नींद लें।
3. अपनी एक सपनों की डायरी बनाएं जिसमें उठते ही जो सपना आपने देखा उसे लिखें।
4. आप सुबह अपने सपनों वॉइस रिकॉर्ड, ड्रा या स्केच भी कर सकते हैं।
5. अपने सपनों की डायरी को पूरे दिन अपने साथ रखें ताकि आप किसी भी समय कुछ भी याद कर सकें।
6. जब आप बिना किसी हलचल के उठें तब भी स्थिर रहें। इससे आपको अपने सपने को याद रखने पर ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलेगी।

सपनों को गहरी जड़ें, चिंताओं, विचारों, भावनाओं, इच्छाओं, बेचैनी और भय को समझने के लिए एक मार्ग माना जाता है। सपने सार्थक होते हैं और कभी-कभी हमारी नींद में या जागने के बाद भी परेशान करते हैं। अगर कोई चीज आपको सपने में परेशान करती दिख रही है, तो आप इसके बारे में किसी प्रोफेशनल से बात कर सकते हैं और उसके बारे में चर्चा कर सकते हैं। इसलिए अवेयर रहें, जिज्ञासु रहें और सपने देखते रहें!

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


Why being Adaptable is important?

Do you begin each day with the mindset that you are prepared to handle whatever might happen? Or does the prospect of experiencing unexpected events or leave you feeling anxious?

The personality trait of adaptability helps determine how you respond to change. People who are highly adaptable are often described as "flexible, or as someone who goes with the flow’. While we may or may not naturally be prone to being adaptable, we can consciously decide to be flexible in our ideas and expectations. Over time, this changes our attitude which will naturally lead us to become better at adjusting to the circumstances we'll all inevitably face.

 

 

There are many plus points in being adaptable. If you're feeling the need to become more adaptable or have been told you need to be more flexible, realize that these benefits are well within your scope, but they may take a little practice. It means being a perpetual optimist and displaying extraordinary resilience. Adaptability talent can be possessed both in both attitude and action, and one can’t exist without the other. Learn how you can adapt to become better with these tips:

 

  1. Someone who is adaptable is exposed to new ideas, and doesn't need to do things just because "that's how they've always been done." They're able to expect changes and don't fear when things don't go according to plan.

 

  1. People who are adaptable excel as front-runners. They earn the respect of their peers and inspire those around them to embrace change. People are more likely to trust in you when the going gets strong. They realize how good you are at get used to new situations. Nobody cares about the person who does nothing but panic all the time. 

 

  1. Imagine you got bad grades due to a decline in study performance or some other reason. What's your first move? Do you give up, or do you think about how you can reposition yourself? Being adaptable can mean less time in worrying over your mistakes, and less stress as you tackle challenges at study.

 

  1. Teentalkinidia experts believe that being adaptable has many benefits, one of the most important of which is increased happiness: We constantly meet psychological threats. Some of us succumb, we feel hopeless, disempowered and some meet challenges, take the knock and learn something from it. Our ability to have life satisfaction and to have good relationships really depends on our ability to adapt.

 

  1. Bad things happen to all of us but if you take adversity in stride, never letting it destroy you; then you adjust your thoughts and expectations to suit your new reality. Rather than dwelling on "what could have been’. Being adaptable is similar to being resilient.

 

  1. Deriving positives from situations or projects that don’t go as planned can be hard, particularly if the loss was big, or a significant deadline is lost. However, being able to find the silver lining in everything you do is a brilliant example of adaptability skills in action, as it involves you to reset and reframe your focus, often taking a step back and viewing things less judgmentally and more objectively. If you find it difficult to identify the positives, start by noting down what you learn when things don’t go as scheduled, factoring this exercise in as a crucial part of your evaluation strategy.

 

A famous Chinese proverb says, "The wise adapt themselves to circumstances, as water molds itself to the pitcher." Being adaptable means you alter yourself to accommodate your circumstances.  This means less time trying to modify your circumstances, which may or may not work, and more time regulating your own attitude and expectations. This is a lifelong process, and the sooner you start trying to turn your life around, the better. Keep receiving change, and don’t see the destruction of the status quo as a bad thing. It may seem simple to alter your state of mind in this way, but you have to be bold, brave and courageous.

 

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.