Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

Self-Esteem Begins with Self-Compassion

Teens are often found to be battling self worth and retaining self-confidence. This however begins with turning the power of self-compassion inwards and reminding oneself of the strengths which allow you to be YOU.

Teens these days are going through a lot of anxiety, self-doubt, comparison, competitiveness, perfectionism, and so many other things which cause them stress and worst of all, low self-esteem and confidence. However, these are things which can be worked through with the right tools and tricks. It is important to understand that what we say to ourselves matters significantly. What others tell us and what we experience matter secondarily.

Here are some ways which help you build your confidence and remind you of who you truly are.

  1. Sentence completion – Try to write at least five sentences down each day with the following prompts. “My loved ones admire me because…”, “My best quality is…”, “I feel empowered when…”, “I gain strength from…”, “I am proud of myself for…”

  2. Gratitude Exercise – Each day try to journal the following sentences. “Today I am grateful for…”, “I am grateful for ….. people.”, “I am grateful for… experiences.”

  3. Wins List – Make a list of all the small and big successes and achievements you’ve managed to accomplish so far. Add what you envision to accomplish in the near and distant future.

  4. Two Minutes – Each day, take only two minutes during the day to just sit back and appreciate yourself for all that you’ve done. Only two minutes.

  5. Inner Critic – When you r inner critic is driving you to the ground, take a minute and ask it to ‘STOP’ and take a break.

  6. Affirmations – These are simple, short and positive statements which are about yourself and remain in the present tense. They can start with, “I am…” and continue to include at least one feeling word and reflect a behaviour. For example, “I am feeling positive today”. Try to say five such affirmations each day in the morning to remind yourself of how competent, creative, powerful and smart you are.

  7. Visualization – Imagine yourself at your very best. What would that person look and feel like. Try to make a list of these feelings and thoughts in a diary and keep reminding yourself that you are capable of feeling and becoming the best version of yourself. Imagine, create, feel, succeed!

Self confidence and self esteem are components which can be driven internally. The more positive and appreciative you are of yourself, the better you feel. Others may also give you a chance to feel good about yourself, however, turning this feeling inwards is what makes it more powerful.

Enable yourself to create a world where you are important to yourself. Self confidence is also about self-compassion and kindness. Treat yourself like you would treat a dear friend and watch how you flourish in the world.

 

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


टीनएजर्स में पैनिक डिसऑर्डर की समस्या

पैनिक डिसऑर्डर जैसी समस्या आमतौर पर टीनएज के अंतिम पड़ाव में शुरू होती है। इसलिए समय से पहले ही इसके लक्षणें को समझना जरूरी है।

हर 75 में से एक इंसान पेनिक डिसऑर्डर को गंभीर समस्या के रूप में देखता है। आमतौर पर यह समस्या टीनएज (किशोरवस्था) के अंतिम पड़ाव या युवावस्था की शुरुआत में दिखाई देती है। हालांकि यह क्यों होती है, इसके कारण अब तक स्पष्ट नहीं हो पाए हैं। लेकिन हमारे जीवन में हो रहे तनावपूर्ण बदलाव और पैनिक डिसऑर्डर का गहरा संबंध है। ऐसे कई प्रमाण भी पाए गए हैं जिससे ये कहा जा सकता है कि पैनिक डिसऑर्डर जैसी समस्या 'जीन्स' के कारण भी हो सकती है। इसलिए अगर परिवार में पहले भी किसी को यह बीमारी हो चुकी है तो सतर्क रहें। ऐसी स्थिति में इसके होने की आशंका और भी बढ़ जाती है, खासकर जब आपकी लाइफ ज़्यादा तनावपूर्ण होती है।

पैनिक अटैक के मामले अक्सर अचानक डर के बढ़ने के कारण सामने आते हैं, जो बिना किसी चेतावनी के इंसान को प्रभावित करते हैं और कारण भी स्पष्ट नहीं होता। पैनिक अटैक के लक्षण है-

  • धड़कने तेज हो जाना
  • सांस लेने में दिक्कत होना, ऐसा लगना जैसे हवा कम हो रही है
  • लकवा हो जाने का डर
  • मितली, सिर दर्द, चक्कर आना
  • कांपना और पसीना आना
  • घुटन होना, सीने में दर्द होना
  • अचानक से गर्मी या अचानक ठंड लगना
  • पैर की उंगलियों में झुनझुनी होना
  • पागल हो जाने या मर जाने का डर लगना

याद रखें कि पैनिक अटैक के दौरान ऊपर दिए गए चार या इससे अधिक लक्षण दिख सकते हैं। ये लक्षण तेजी से दिखते हैं और 10 मिनट में नजर आ सकते हैं।

पैनिक अटैक का असर लम्बे समय तक रहता है। अटैक के घंटों बाद भी घबराहट और चिंता बनी रहती है। किसी भी टीनएजर्स के लिए पैनिक अटैक जैसी समस्या का सामना करना मुश्किल और डरावना साबित हो सकता है।

अगर इसका इलाज नहीं किया जाए तो यह जीवन में नकारात्मक असर छोड़ता है। यह स्कूल, सम्बंधों और आत्मसम्मान के लिए समस्या पैदा कर सकता है। कोई टीनएजर पैनिक डिसऑर्डर से जूझ रहा है इसका पता केवल क्वालिफाइड प्रोफेशनल ही लगा सकता है। एक डॉक्टर ही पैनिक डिसऑर्डर के कारणों की पहचान कर सकता है और बता सकता है कि इसका कारण डिप्रेशन या कोई दूसरी घटना तो नहीं है।

पैनिक डिसऑर्डर का इलाज संभव है और कई बेहतर थैरेपी भी अवेलेबेल हैं। एक बार इलाज के बाद, पैनिक डिसऑर्डर किसी भी स्थायी जटिलताओं का कारण नहीं बनता है। इसलिए, यदि आपको लगता है कि आपके आसपास कोई ऐसा व्यक्ति है जो ऊपर बताए गए लक्षणों से जूझ रहा है तो उसका पेशेवर विशेषज्ञ से इलाज कराएं। आप चैट या ईमेल ([email protected]) के माध्यम से हमारे एक्सपर्ट से बात कर सकते हैं।

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.