Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

Positive Psychology for Teenage Well – being

Positive psychology allows us to find meaning, hope and purpose in life which keeps us striving for something better and meaningful. It's not about being happy. It's about strengthening oneself to combat struggles.

Positive psychology is about finding meaning, purpose, and the strength to live and experience pain, struggles and difficulties with resilience. It’s important to believe that positive psychology doesn’t mean that one needs to be ‘happy’ all the time. In fact, one needs to find it in him/herself to fight through whatever comes their way and keep growing and developing as an individual and stay engaged in their community.

Adolescence brings various challenges and struggles which cause stress, anxiety and other psychosocial concerns for teens. Positive psychology can allow them to experience these challenges more rationally continue to nurture into budding adults. Helping teens build more resilience and adapt to healthier ways of fighting hard times, here are some strategies from positive psychology which can enhance their teenage experience.

  1. Identify your Uniqueness – We all are made of unique capabilities and qualities. Try to identify these in yourself which set you apart from everyone else. These will come to use when you find yourself struggling.

  2. Look for the Positives – It’s very easy to get caught up in the negative things happenings with or around us. Take a moment to pay attention to just one positive thing a day. Retrain your mind to broaden your views about things and find one positive things that happened today and focus on it.

  3. Replace negative emotions with positive ones – Negative emotions helps us grow and become stronger. However, positive emotions can also aid this growth. Find one meaningful thing to do each day which brings you positive feelings to balance out the negative ones.

  4. Forgive and Connect – Make a list of trusted people in your life. These become your ‘go to’ people when you need support. Connecting with people who care about you, can be rewarding and reassuring. Forgiveness is a difficult thing to accomplish, but doing so can bring you more peace and the strength to let go.

  5. Futuristic Thinking – Past has passed, present is happening, future is yet to happen. This is something which you can control to a certain extent. Try to make short – term and long-term goals for your desired future including personal and professional. Once you start envisioning a future of your choice, you find meaning and purpose for life.

  6. Gratitude goes a long way – Dedicate some time each day to write thank you notes to all the positive things that have happened to and around you. Gratitude reminds you that life does have positive things to offer.

Positive psychology is something which helps you nurture yourself and lead a more empowering life. Starting early on is useful as you grow up and use these strategies as an adult as well. In the midst of chaos, allow your mind to give you that ray of positivity and hope which will help you get through difficult situations. In times of sadness and grief, it’s okay to feel negative emotions with the hope that these are temporary and will eventually pass.

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


टीनएजर्स टीचर्स और पेरेंट्स से बहस क्यों करते हैं, ये हैं 5 कारण

काउंसलर क्षितिज सावंत के अनुसार, "टीनएजर होने के नाते रिबेल नेचर (विद्रोही) होना सामान्य बात है। लेकिन इसके परिणामों को समझना और उसके अनुसार फैसले लेना भी बहुत जरूरी है।

एक टीनएजर होना विद्रोही होने के समान है। इस उम्र में घर में बच्चों और पेरेंट्स के बीच तनाव रहता है जबकि स्कूल में बच्चे और टीचर के बीच भी यही माहौल बना रहता है।

क्या है विद्रोही होना?
सरल शब्दों में विद्रोही होने का मतलब है, जानबूझकर नियमों का विरोध करना।
जैसे आपके पेरेंट्स ने रात 8 बजे घर आने के लिए बोला है, लेकिन आप जानबूझकर रात 12 बजे घर पहुंच रहे हैं।
आपके टीचर ने आपको फिजिक्स का प्रोजेक्ट जल्दी खत्म करने के लिए बोला है लेकिन आपने जानबूझकर क्लास में इसे सबसे अंत में जमा किया।
दोनों घटनाओं में, रात 8 बजे समय पर घर आना और प्रोजेक्ट जल्दी जमा करना जैसी आदत आपको लम्बे समय तक सहायता कर सकती है।
साइकोलॉजी टुडे जर्नल में प्रकाशित एक लेख के अनुसार, साइकोलॉजिस्ट कार्ल पिकहार्डट कहते हैं, "टीनएजर्स सोचते हैं कि विद्रोह करना आत्मनिर्भरता का कार्य है, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। यह वास्तव में निर्भरता का कार्य है। रिबेल नेचर आपको अपने ही व्यवहार के अपोजिट बनाता है और जो लोग चाहते हैं आप उसका उल्टा करने लगते हैं।"

विद्रोह के दो रूप हो सकते हैं-
गैर-अनुरूपता का विद्रोह: जब आप अपने बाकी दोस्तों से अलग अपने बालों को काटने का विकल्प चुनते हैं।
गैर-अनुपालन का विद्रोह: जब आप एक इंजीनियर के बजाय एक कलाकार बनना चुनते हैं।

विद्रोही बनने की 5 स्टेज -
1. बच्चों की तरह ट्रीट होना नहीं पसंद (9 -12 ): एक किशोर इस उम्र में सोच लेता है कि उसे आगे क्या बनना है। टीचर्स का मजाक उड़ाना केवल अपने फ्रेंड्स ग्रुप में अच्छा लगता है लेकिन आपको उनकी जरुरत तब पड़ती है जब कोई कॉलेज एप्लिकेशन्स जमा करवाना हो। तब महसूस होता है कि उन्हें बुरा बोलना बहुत बड़ी गलती थी।

2. सोसाइटी द्वारा लगाए गए नियम (13-15)-  क्या घर कोई झगड़ा करने की जगह है? मैं अपना होमवर्क नहीं करूंगा. मैं टाइम पर नहीं आऊंगा। मैं ट्यूशन क्लास नहीं जाऊंगा। जो भी पेरेंट्स कहेंगे मैं वो बिल्कुल नहीं करूंगा। यह वह समय होता है जब सब चीज़ें उल्टा करना अच्छा लगता है। लेकिन याद रहे, दोस्त भले हमेशा साथ ना रहे, पेरेंट्स हमेशा साथ रहते हैं।

3. बचपन की निर्भरता से मुक्ति(16-18): मुक्त होने की इच्छा, लाइफ को खुद के हिसाब से जीने का रोमांच और अपने सपनों को पूरा करने का जज्बा सबमें होता है। इस उम्र में ऐसा लगता है कि पूरी दुनिया आपके कदमों में है। अपने पेरेंट्स का ध्यान रखें, वह आपके लिए हमेशा अच्छा ही सोचते हैं।

4. पैतृक अभिभावक अधिकार (19-23): यह वह चरण है जब आपने अपना कॉलेज पूरा कर लिया है और आपके पास नौकरी है। अपने लिए लड़ी गई सभी चीजों को आपने महसूस किया गया है। आखिरी चरण वह है जो आप करने के लिए तैयार हैं।

5. स्वीकृति: यह ऐसी स्टेज जहां एक युवा को पता चलता है कि उसे समाज द्वारा बनाए गए नियमों के अनुसार ही कार्य करना है। इस बात को स्वीकार करना ही युवावस्था की शुरुआत है।

अगर आप Teentalk India के काउंसलर से बात करना चाहते हैं, तो [email protected] पर ईमेल करें। आप रिलेशनशिप टैब में इसके बारे में अधिक पढ़ सकते हैं।

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.