Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

Instilling leadership skills in Youth

While leadership skills can come naturally, youth learn lessons along the way that considerably impacts them later in life.

Today’s youth are tomorrow’s leaders, especially if those children have parents who are leaders. Actually, today’s leaders can prepare younger generations for their future as business leaders. Each of these suggestions given below, will not only create better leaders, but can help youth perform better in school and develop good relationships throughout life.

 

 

Leaders are all over, not just at the top of an organization. Anyone can be a leader from whom they are and where they are. We can influence people around us in positive ways, and that can have an vast impact in their lives. We can take responsibility to bring out our best in every situation. Teentalkindia expert shares few great tips to help you instill the right skills in the future leaders in your life:

  • Set an example: As a leader, you understand the importance of setting a good example for your team. This is even truer for parents. By allowing children to see how well you balance your professional and personal roles, parents teach them accoutability through effective leadership.
  • Motivation for team activities: identify your interests and encourage yourself to participate in group activities. Whether it’s joining a scouting troop, participating in sports or joining the school band, you learn valuable lessons about teamwork through these activities.
  • Communicate with confidence: When you go to a restaurant, do you place orders for your family or friends? You can actually turn a simple dinner into a confidence-building exercise by speaking directly to servers. By ordering and speaking directly to servers will help to gain confidence and be able to communicate what you want.
  • Find a coach/mentor: As parents can be a great example to children, a mentor can be invaluable. A trusted friend or family member can be a great mentor, especially if that person is accomplished in an area in which you have an interest. There are also some companies that can supply screened members as mentors like www.mentoryes.com, etc.
  • Optimist thinking: Know the power of positive thinking. Show a positive attitude and a negative attitude — what are the outcomes of each? You can also learn about few key people in literature and throughout history (eg., Thomas Edison) and think the role that positive thinking played in their accomplishments as leaders.
  • Hard work and perseverance: Set realistic goals, and stay motivated when you get tired or fail. Sports activities and competitive learning games present great opportunities for practicing the skill of perseverance. Perhaps you could also briefly think about the disappointment of losing and how you can learn from that experience.

Making well-rounded leaders requires a holistic approach to learning. That holistic approach captures all the touch points where leadership skills can be crafted. This could be prospects like formalized training, experiences like internships and tutoring, or roles like being the president of a student organization. The end motive is to develop a clear pathway that students can understand and navigate for themselves. Leadership is practiced, varies by situation, and demonstrated in different ways. And while we tend to notice the charismatic leaders with the loud and bold personalities, the fact is that anybody, even the quiet guy in the back who hardly speaks a word in class, can become a leader.

 

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


शिफ्टिंग के दौरान कैसे करें स्ट्रेस कम

स्टूडेंट हॉस्टल में रहें या फिर पेइंग गेस्ट की तरह रह रहे हों, यह जगह हमारे लिए बेहद अहम होती है। बात जब शिफ्टिंग की आती है तब कई चीजों से सामना होता है।

मूविंग इन या मूविंग आउट, दोनों ही स्ट्रेस में डाल देते हैं। फिर चाहें आप एक अपार्टमेंट से दूसरे अपार्टमेंट शिफ्ट हो रहे हों या फिर एक शहर से दूसरी शहर। मुश्किलें तो आती ही हैं और इससे स्ट्रेस भी बढ़ जाता है।

स्टूडेंट हॉस्टल में रहें या फिर पेइंग गेस्ट की तरह रह रहे हों, यह जगह हमारे लिए बेहद अहम होती है। जिन जगहों पर हम रहते हें वो हमारे जीवन का एक हिस्सा बन जाता है और हम कंफर्टेबल महसूस करते हैं। लेकिन बात जब शिफ्टिंग की आती है तब कई चीजों से सामना होता है। सामान पैक करना फिर नयी जगह पहुंचकर उन्हें अनपैक करके नई जगह पर वापस रखना, यह पूरा काम काफी मुश्किलों से भरा हुआ रहता है। पुराने घर की सभी यादें स्टूडेंट्स को भावुक बना देती हैं जिससे स्ट्रेस लेवल और भी बढ़ जाता है।


शिफ्टिंग हमारे लिए लाइफ का एक एक्साइटिंग और लर्निंग एक्सपीरियंस साबित हो सकता है। इसके लिए हमारी ओर से भी प्रयास होने जरूरी हैं। यहां उनमें कुछ बताए जा रहे हैं-

सही एटीट्यूड
अगर शिफ्ट होना आपकी चॉइस नहीं है तो यह स्वाभाविक है की आपको बुरा लगेगा और इस डिसिशन से आप बिलकुल खुश नहीं होंगे। लेकिन आपको शिफ्ट होना है और आपके पास कोई चॉइस नहीं है तो क्यों ना इस काम को ख़ुशी- ख़ुशी किया जाए। सोचिए कि आपको नए लोग मिलेंगे, नई जगहों को जानेंगे, नई कैंटीन, नया अनुभव और नई चीजें। यह सब कुछ लाइफ को बेहतर बनाने में मदद करेगा।

नई जगहों को खोजना
नयी जगह पर शिफ्ट होना थोड़ा डरावना हो सकता है क्योंकि आप उस जगह को पहले से नहीं जानते। लेकिन उस जगह पर घूमना, वहां की दुकानें, एटीएम, रेस्तरां आपको उस जगह से फ्रेंडली बना सकते हैं। इसके बाद आप उस जगह से बिलकुल अनजान नहीं रहेंगे।

प्लानिंग सबसे ज़्यादा जरुरी है
बहुत से लोग पैकिंग के समय हार मान लेते हैं लेकिन इस मुश्किल को आसान करने के कुछ टिप्स अपना सकते हैं।

- शिफ्ट होने से पहले अपने पास कुछ बॉक्स इकट्ठा करें या फिर अपने पास कुछ खाली बक्से रखें।
- अपना सामान व्यवस्थित करें। बिखरा हुआ सामान आपके दिमाग में नकारात्मकता लाता है। इसलिए जो सामान आपके काम का नहीं उसे हटाएं। चाहें तो डोनेट करें या रिसाइकल करें।
- एक जैसी चीज़ें एक ही बॉक्स में रखें जिससे अनपैक करने में मुश्किल ना आए। जैसे केबल्स, चार्जर एक बॉक्स में, बुक्स, कीमती चीजें, आदि इन सबके लिए अलग-अलग बॉक्स बनाएं।
- शिफ्ट होने से पहले, जिस नई जगह पर आप शिफ्ट हो रहे हैं उसे अच्छी तरह से देख लें और कहां क्या रखना है पहले से ही सोच लें। इससे आपको सामान अनपैक करने में ज्यादा मुश्किल नहीं आएगी।

पैकर्स और मूवर्स
अगर आप एक से दूसरे शहर में शिफ्ट कर रहे हैं तो पैकर्स और मूवर्स से कॉन्टेक्ट करें। ये आपकी चीज़ें सावधानी से और अच्छी तरह से शिफ्ट करने में मदद करेंगे। अगर शहर के अंदर ही शिफ्ट कर रहे हैं तो दोस्तों की मदद ले सकते हैं।

इमोशनल सपोर्ट लें
शिफ्ट होने से पहले इमोशनल होना स्वाभाविक है। इसलिए दुखी बिलकुल मत हों और ऐसे समय में अपने दोस्तों और परिवार का सहारा लें। वे आपको इमोशनली सपोर्ट देंगे जिससे आप इस समस्या को भी आसानी से हल कर लेंगे। ऐसे समय में खुद को सबसे अलग बिलकुल भी मत करिए।

रूटीन सेट करें
पुरानी जगह से नई जगह शिफ्ट होने में आपका रूटीन बिगड़ जाता है क्योंकि सामान को अनपैक करना, सही जगह उसे रखना यह सब आपका समय बहुत लेता है। इसलिए नई जगह पर नया रूटीन बनाकर उसे फॉलो करने की कोशिश करें।

यह बात हमेशा याद रखें कि जीवन में जो चीज़ कांस्टेंट है वो है बदलाव। बदलाव आते रहेंगे इसलिए जरुरी है कि हम इस बात को अपनाएं और इसी के साथ अपना जीवन खुशहाली से जिएं। हो सकता है जिसे आप अंत समझ रहे हों वो जीवन की नई शुरुआत साबित हो।

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.