लॉग इन करें
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

लॉकडाउन में अपने बच्चों को कैसे इन्वॉल्व करें

लाखों बच्चों ने अपनी जिंदगी में लर्निंग और डेवलपमेंट के अवसरों और ज़िंदगी में आगे बढ़ने के अधिकारों को खो दिया है।

मूवमेंट पर रिस्ट्रिक्शन, स्कूल बंद होने और लगातार चल रहे आइसोलेशन की वजह से बच्चे स्ट्रेस का सामना कर रहे हैं, इससे उनकी मेंटल हेल्थ पर प्रभाव पड़ रहा है।

वे बच्चे जो डायरेक्ट या इनडायरेक्ट कोविड-19 से प्रभावित हो रहे हैं, उन्हें यदि टाइम पर ट्रीटमेंट न दिया जाए तो स्ट्रेस और ट्रॉमा कई गुना ज्यादा प्रभावित कर सकता है।

इसके लिए किसी एक्सपर्ट हेल्प की ज़रूरत नहीं है, सभी पेरेंट्स और केयर टेकर्स घर पर ही बच्चों को इंगेज रखने के लिए कुछ एक्टिविटीज कर सकते हैं और उनके ज्यादा से ज्यादा टाइम को यूटीलाइज़ कर सकते हैं।

यहां कुछ बातें बातें बतायी गई हैं, जो बच्चे को इन्वॉल्व करने के लिए आप कर सकते हैं :

1. एक्सरसाइज़ : एक एक्सरसाइज़ शेड्यूल बच्चों के संग प्लान कीजिए और उन्हें एक्सरसाइज़ के इंर्पोटेंस बताइए।

2. गार्डनिंग : गार्डनिंग, प्लान्टिंग, सेपलिंग आदि के काम में शामिल करें – गार्डनिंग से बच्चे नेचर और इकोसिस्टम के करीब आना सीखेंगे, यह साबित हुआ है कि इको थैरेपी से बच्चे अपने प्लांट के साथ इन्वॉल्व होना और बॉन्डिंग बनाना सीखेंगे। आप उनसे एक पेड़ को गोद लेने और उसकी देखभाल करने का तरीका बताएं।

3. ऑर्गनाइज़िंग : अपने बच्चे को अपना रूम, स्टडी डेस्क या खिलौने ऑर्गनाइज़ करना अ सिखाएं, उन्हें गाइड करें कि कैसे वे अपनी चीजों को साफ और ऑर्गनाइज़ करने का तरीका बताएं और उनमें अपने घर में चीजों को ऑर्गनाइज़ करने का सेंस डेवलप करें।

4. किचन : बच्चों के हिसाब से सुरक्षित हो उस हिसाब से उनकी किचन या घर के काम में मदद लीजिए। इससे उनके अंदर आपके काम को पहचानने और एप्रीसिएट करने का सेंस डेवलप होगा।

5. रीडिंग : बच्चों को पढ़ने के लिए कुछ स्टोरीज़  बुक दीजिए, यह डेवलपमेंट के लिए एक बहुत ज़रूरी स्किल्स है और इससे उसकी लैंग्वेज डेवलप होगी और बुक्स में उनका इंट्रेस्ट बढ़ेगा।

6. आर्ट एंड क्राफ्ट : अपने बच्चों को गाइड करें कि वे वेस्ट मटेरियल का उपयोग करके कुछ क्रिएटिच चीजें घर में बनाएं और पेंटिंग और आर्ट वर्क संबंधी उनकी क्रिएटिविटी को डेवलप करें। कलर्स बच्चों को खुश रखते हैं। चीज़ों को उपयोग करने के बाद उन्हें अरेंज करके रखना सिखाएं और जिन चीजों को क्लीन करने की ज़रूरत महसूस हो उन्हें क्लीन करने के लिए गाइड करें। 

7. योग करना : दिन के कुछ समय अपने बच्चों को योग आसन के बारे में बताएं और उन्हें कहें कि उन्हें बताएं जब वो योग करना चाहें। उन्हें कारण के साथ योग करने का बेस्ट टाइम कारण के साथ बताइए। यह बॉडी और माइंड को फ्लेक्सिवल रखने का सबसे बेस्ट तरीका है और 5 मिनट अपनी पसंद का वैसा मेडिटेशन करने के बारे में बताएं, यह स्ट्रेस से राहत देने का सबसे बढ़िया तरीका है।

8. बच्चों के संग खेलना : लूडो, सांप सीढ़ी या कोई अन्य खेल जिसमें उन्हें इंट्रेस्ट हो वह खेलिए। यहां तक कि कुछ वीडियो गेम्स भी कॉन्सन्ट्रेशन बनाने के लिए अच्छे होते हैं। इससे आपके और बच्चे के बीच की बॉन्डिंग बेहतर होगी और अपने बच्चे को समझने में अच्छे से मदद मिलेगी।

9. हाइजीन : अपने बच्चे को हाइजीन रूटीन अपनाने के लिए गाइड करें और उन्हें बताएं कि इसे फॉलो करने के क्या फायदे हैं। उनके हाइजीन बिहेवियर को आकार देने के लिए रीइन्फोर्स करते रहिए ,  इसके लिए उन्हें छोटे-छोटे स्टार देते रहिए और लॉकडाउन खुलने के बाद उन्हें 10 स्टार्स के रूप में रिवॉर्ड दें या रिवॉर्ड के रूप में केक बेक कर दीजिए।

10. पक्षियों का ध्यान रखना :अपने आसपास के पक्षियों की बच्चे कैसे केयर कर सकते हैं, उन्हें बताइए, उन्हें रोजाना पक्षियों को पानी देने और दाना डालने के बारे में बताइए। यह भी ध्यान रखिए कि वह खाली न रहे न ही गंदा हो। इससे उनके अंदर जिम्मेदारी का भाव आएगा और उनके अंदर नेचर के प्रति प्यार डेवलप करेगा।

ये सब करने से बच्चे के अंदर कीमती लाइफ स्किल्स डेवलप होगी और एक-दूसरे के संग इन्वॉल्व होने में मदद मिलेगी,  बच्चे को बेहतर ढंग से समझने और बॉन्डिंग डेवलप करने में मदद मिलेगी।

यदि आपके पास भी हमसे शेयर करने के लिए कोई कहानी है तो हमें यहां , ईमेल करें

यदि आपके पास कोई सवाल हैं, तो हमें यहां , ईमेल करें

आप क्लिक करके काउंसलर से भी बात कर सकते हैं टीनटॉक एक्सपर्ट चैट.

Comments

अगली कहानी


त्योहार के इस मौसम में आशा की किरण

इस साल हम हर त्योहार को बिल्कुल अलग तरह से सेलिब्रेट कर रहे हैं। दीवाली पर हम परिवार और दोस्तों से मिलते हैं, मिठाइयां एक-दूसरे को देते हैं और इस दिन को पूरे उत्साह और आनंद के साथ मिलकर सेलिब्रेट करते रहे हैं।
Snigdha Teentalkindia Counsellor

इस साल हम हर त्योहार को बिल्कुल अलग तरह से सेलिब्रेट कर रहे हैं। दीवाली पर हम परिवार और दोस्तों से मिलते हैं, मिठाइयां एक-दूसरे को देते हैं और इस दिन को पूरे उत्साह और आनंद के साथ मिलकर सेलिब्रेट करते रहे हैं। 

यह साल अलग है। हममें से कुछ लोग अपनी फैमिली से दूर हैं और ट्रैवल नहीं कर सकती हैं, कुछ लोग अपने घरों में क्वारेंटाइन हैं, तो कुछ के घर की स्थिति ऐसी है, कि वो सबके होने के बावजूद अकेला महसूस कर रहे हैं। कुछ लोग ऐसे हैं, जिन्होंने कोविड के कारण नुकसान हुए हैं। कुछ लोग मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी चिंताओं का सामना कर रहे हैं और कुछ त्योहार के इस चकाचौंध भरे माहौल से दूर रहना चाहते हैं। कुछ लोग थोड़े समय के लिए सोशल मीडिया पर खुशियां तलाश रहे हैं।

यदि आप भी अकेलेपन का सामना कर रहे हैं और दुखी हैं और इस सबका असर आपकी डेली लाइफ पर हो रहा है, तो आपको किसी एक्सपर्ट से बात करनी चाहिए। हमारे एक्सपर्ट ने यहां कुछ टिप्स दिए हैं, जो फेस्टिव सीजन में अकेलेपन को काबू में करने में मदद करेंगे।

1. अपनी फीलिंग्स को लेकर अवेयर हों और उन्हें पहचानें 
आप कैसा महसूस कर रहे हैं, इसे लेकर अवेयर होना आपके लिए हमेशा मददगार होगा। यदि आप लो फील कर रहे हैं और दुखी हैं, तो सोचिए कि यह फीलिंग्स कहां से आ रही है, ऐसी कौन सी चीज है, जो आपको ऐसे में बेहतर महसूस करा सकती है, इस मुश्किल समय में आप कैसे खुद को सपोर्ट कर सकते हैं।

यदि आपको निगेटिव फीलिंग्स अचानक आ रही है, तो यह सोचिए कि ऐसा क्या है जो आपको ऐसे में खुशी महसूस करा सकता है। इससे आपको सल्यूशन ढूंढने में मदद मिलेगी।

2. रूटीन फॉलो करें
जब हम दुखी और तनावग्रस्त होते हैं, तो हमारा खाने, या सोने या कुछ भी काम करने का मन नहीं होता है और कई बार हम बहुत ज्यादा सोते, बहुत ज्यादा खाने लगते या बहुत ज्यादा काम करने लगते हैं। यह आपकी पूरी दिनचर्या को बिगाड़ता है। इससे ब्रेक लेने के लिए आप एक रूटीन फॉलो करें, जो आपके बॉडी और माइंड के लिए बैलेंस हो। आप एक हेल्दी लाइफस्टाइल अपना सकती हैं, जो निगेटिव फीलिंग्स पर काबू पाने में आपकी मदद कर सकती है।

3. ख़ुद के लिए प्यार दिखाएं
यदि आप दूसरों की बजाय ख़ुद को ज्यादा महत्व दें और अपनी ज़रूरतों का ख्याल रखें तो यह अकेलेपन को काबू में करने में आपकी हमेशा मदद करेगा। वे छोटे-छोट काम करें जिनसे आपको खुशी मिलती है। यदि आप त्योहार के इस मौसम में अकेला महसूस कर रहे हैं, तो आप अपने कमरे को सजा सकते हैं और त्योहार के हिसाब से कपड़े पहनने से आपको खुशी मिलेगी।

4. वर्चुअली अपने परिवार के लोगों से मिलिए
अगर यह संभव नहीं है कि आप पहले की तरह अपने रिश्तेदारों और दोस्तों से मिल सको तो हम वर्चुअली मिल सकते हैं। हम अपने घरों में तैयार होकर, अपने लिए कुछ अच्छे व्यंजन बनाकर और अपने फ्रेंड्स और रिलेटिव को वीडियो कॉल करके अच्छा समय बिता सकते हैं। आप ग्रुप कॉलिंग के लिए जूम या वॉट्सएप जैसे एप्स की मदद ले सकते हैं।

यदि आप सोसायटी में जाकर आमने-सामने इंटरेक्शन नहीं कर सकती हैं, तो आप कुछ दीवाली स्पेशल रेसिपी अपने पड़ोसियों को भेज सकती हैं।

यह साल हम सभी के लिए कुछ अलग और मुश्किल है। हम सभी कई तरह की समस्याओं से जूझ रहे हैं। मगर यह हम सभी के लिए एक ऐसा मौका है जब हम अपने बोरिंग रूटीन से हटकर कुछ चमक और ताजगी अपनी ज़िंदगी में जोड़ सकते हैं।

यदि आपके पास भी हमसे शेयर करने के लिए कोई कहानी है तो हमें यहां , ईमेल करें

यदि आपके पास कोई सवाल हैं, तो हमें यहां , ईमेल करें.

आप क्लिक करके काउंसलर से भी बात कर सकते हैं टीनटॉक एक्सपर्ट चैट.

टिप्पणियाँ

कॉपीराइट टीनटॉक 2018-2019
डिस्क्लेमर : टीनटॉकइंडिया आपातकालीन सेवाएं नहीं प्रदान करता है और न ही यह किसी तरह की आपदा में हस्तक्षेप करने वाला कोई केंद्र है। अगर आप या आपका कोई मित्र या परिचित गहरे अवसाद के दौर से गुज़र रहा है, या उसके मन में आत्महत्या या स्वयं को नुक़सान पहुंचाने वाले विचार आ रहे हैं तो कृपया निकटस्थ अस्पताल या आपातकालीन/आपदा प्रबंधन सेवा केंद्र या हेल्पलाइन से सम्पर्क करें।