Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

A guide to master ‘Just be yourself’ behaviour

Practicing 'just be yourself' behaviour

It sounds like a wonderful thing to do, and we wish many times that we could just do that. But what it means? Our true self is who we really are when we let go of all of the labels, and judgments that we have placed upon ourselves. It is who we naturally are without the masks and posing. Your authentic self is the real you which goes beyond all of those conditioned beliefs and thinking patterns that you have gathered throughout your life. Below are some steps that may help in uncovering your real nature:

  • Stay connected with your inner child: If you ever observe small children, you will notice just how free they are and how least they care about what other people think of them. They are happy and in their true natures; Children are just pure love and light. If you really want to connect with your inner child, become freer. Play, have fun, enjoy the moment. We play roles which are appropriate to society and we suppress our true nature out of fear of what others think. If you find yourself thinking about being judged, remember that is merely just the socialized you, not the real you.
  • Get aware of your thoughts:  You may be shocked by the amount of negative thoughts that run through your mind on any given day. Our reality shapes based on all of these conditioned thinking patterns. Become aware of the quality of your thinking. Allow yourself to sit quietly every morning for just five to ten minutes. Thoughts will come off and on, but just allow them to do that without getting attached to them. Just observe them and when you are finished, continue observing the mind throughout the day. Becoming more aware of the quality of your thoughts, can help in revealing your true nature.
  • Follow your intuition: This is probably one of the most important things in being yourself. When you start following the little nudges and impulses that you get, you will have jumped onto the magic carpet ride of awesomeness. When you get into the habit of doing this with small things, it will make it easier to say yes to the big things.
  • Stop focusing on your past: Take a step back and breathe. Don’t forget the framework of your behavior and remember to place them in the past. Your previous decisions and behavior, although impactful, do not define who you are, much less who you will evolve into as you grow into a fuller person. It’s unhealthy to keep distressing yourself for things that you did in the past. Participate in the art of letting go and moving on.
  • Avoid comparing yourself: As you try to understand who you are as an individual, it will be appealing to compare yourself to others. We are surrounded by more beautiful and more successful version of ourselves and those alone can knock down our self-confidence and send us circling into mimicry. However, doing this will only suppress your growth and prevent you from discovering your true self.

Experience life in all potential ways; good-bad, bitter-sweet, dark-light or summer-winter. Experience all the contrasts. Don’t be afraid because the more experience you have, the more mature you get. Don’t force it and you’ll find that things will naturally start falling into place.

“Waking up to who you are requires letting go of who you imagine yourself to be.” ~Alan Watts

 

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


क्यों आईक्यू से ज्यादा महत्व इमोशनल इंटेलिजेन्स का होता है?

माना जाता है कि जिन लोगों का आईक्यू हाई होता है वे लोग अपनी जिंदगी में सफलता हासिल करते हैं, लेकिन अब नई मान्यता है कि जिन लोगों के पास IQ + EI यानी आईक्यू के साथ इमोशनल इंटेलिजेन्स होना भी जरूरी होता है।
Richa DubeyContent Writer

क्या आप हर उस भावना को पहचान सकते हैं जो आप महसूस करत हैं? क्या आप उन भावनाओं से प्रभावित हुए बिना उन पर काबू पा सकते हैं? क्या आप खुद को प्रेरित कर सकते हैं? यदि आपने इन सवालों का जवाब "हां" में दिया है तो आपने कुछ कौशल विकसित किए हैं जो इमोशनल इंटेलिजेंस का आधार बनते हैं।


इमोशनल इंटेलिजेंस क्या है?
इमोशनल इंटेलिजेंस या ईआई भावनात्मक जानकारी को सही ढंग से और प्रभावी ढंग से, स्वयं के भीतर और दूसरों में भी देखने, प्रोसेस करने और रेग्यूलेट करने की क्षमता है। दूसरी ओर, IQ या आईक्यू क्वोशन्ट (भागफल) एक मानकीकृत खूफिया परीक्षण से प्राप्त संख्या मात्र है। बुद्धि के ये मानक उपाय, यानी IQ स्कोर बहुत संकीर्ण हैं और मानव बुद्धि की एक पूरी श्रृंखला को शामिल नहीं करते हैं।
आपने कई बहुत इंटेलीजेंट छात्रों को देखा होगा जो आगे चलकर जीवन में काफी स्ट्रगल करते हैं। वहीं कुछ छात्र पढ़ाई में काफी कमजोर होते हैं, लेकिन अपने करिअर में काफी अच्छा मुकाम हासिल करते हैं। इसका कारण होता है इमोशनल इंटेलिजेंस जो हमारी जिंदगी में आईक्यू से ज्यादा बड़ा रोल निभाता है।
IQ निम्न क्षमताओं का प्रतिनिधित्व करता है:

  • दृश्य और स्थानिक प्रसंस्करण
  • संसार का ज्ञान
  • फ्लयूइड रीजनिंग
  • वर्किंग मेमोरी और शॉर्ट टर्म मेमोरी
  • क्वांटीटिव रीजनिंग (मात्रात्मक तर्क)

EQ क्षमताओं पर आधारित है:

  • भावनाओं को पहचानना
  • दूसरों को कैसा लगता है, इसका मूल्यांकन करना
  • अपनी भावनाओं को नियंत्रित करना
  • दूसरों को कैसा महसूस होता है, यह सोचना
  • सामाजिक संचार को सुविधाजनक बनाने के लिए भावनाओं का उपयोग करना
  • दूसरों से संबंध रखने वाला

इसलिए, IQ के विपरीत, इमोशनल इंटेलिजेंस (EQ)किसी की बुद्धि का एक गतिशील पहलू है और इसमें व्यवहार संबंधी लक्षण शामिल होते हैं, जो काम करने पर व्यक्तिगत लाभ से लेकर व्यावसायिक संदर्भ में सफलता तक महत्वपूर्ण लाभ उठा सकते हैं।

आपके EQ स्तर को बेहतर बनाने के कुछ तरीके इस प्रकार हैं:

  • कम्यूनिकेशन स्किल्स का अच्छा उपयोग करना
  • रिएक्ट करने की बजाए रिस्पॉन्ड करें
  • सुनने की क्षमता को बढ़ाएं और इसका उपयोग करें
  • खुद को पॉजिटिव रखने का अभ्यास करते रहें
  • आत्म-जागरूकता का अभ्यास करें
  • आलोचना को सकारात्मक रूप से लें
  • दूसरों के साथ सहानुभूति रखें
  • नेतृत्व कौशल का उपयोग करें
  • दृष्टिकोण और मिलनसार होना चाहिए

जीवन में किसी भी मोड़ पर कोई भी अपना EQ विकसित कर सकता है। जो लोग स्वाभाविक रूप से अधिक आनुभविक होते हैं वे इन कौशलों को अधिक आसानी से विकसित कर सकते हैं। दूसरों को बस स्वयं के बारे में अधिक जागरूक और जागरूक होने का अभ्यास करना होगा कि वे दूसरों के साथ कैसे बातचीत करते हैं।

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.