Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

टीनएज के ट्रॉमा को समझिए

टीनएज और यंग एज हर व्यक्ति के जीवन के फिजिकल, सायकोलॉजिकल, सोशल, पर्सनल, एकेडमिक और प्रोफेशल जिंदगी में परेशानी का कारण और सुझाव

टीनएज और यंग एज हर व्यक्ति के जीवन का एक संवेदनशील पड़ाव है। यह वो समय है जब जीवन में काफी कुछ बदलाव हो रहा होता है, उस दौरान कई चीजें मैनेज हो जाती है तो कई नहीं हो पाती है। ट्रॉमा परेशानी देने के साथ आपको डरा भी सकता है। साथ यह रोजाना की एक्टिविटी और काम को प्रभावित कर सकता है। 


 

ट्रॉमा कई तरह तरह से हावी हो सकता है, जो फिजिकल, सायकोलॉजिकल, सोशल, पर्सनल, एकेडमिक और प्रोफेशल जिंदगी में परेशानी का कारण बनता है। ऐसी घटनाएं कभी हो सकती हैं। कुछ ऐसे अनुभव भी हैं जो ट्राॅमा का कारण बनते हैं जैसे प्राकृतिक आपदाएं, यौन / शारीरिक / भावनात्मक दुर्व्यवहार या हिंसा जो किसी टीनएजर ने देखी हो। हिंसा, आकस्मिक चोट / बीमारी, किसी प्रिय व्यक्ति की डेथ या अन्य कोई घटना अचानक होती है और अचानक ही ये एक टीनएजर के दिमाग और मन पर असर डालती है। 

 

कुछ घटनाएं टीनएजर्स पर गहरा असर छोड़ती हैं, जो कुछ इस तरह की भावनाओं के रूप में सामने आता है-

 

  • वे अपनी भावनाएं, दुख, गुस्सा और अपराधों का बोध व्यक्त करने में अकेला महसूस करते हैं।
  • नींद न आने की दिक्कत होना
  • ऊर्जा की कमी महसूस रहना
  • पेट में दर्द या सिरदर्द होना
  • चिड़चिड़ापन या गुस्सा करना (दोस्तों, या प्रियजनों से लड़ना)
  • खोया-खोया सा रहना
  • किसी भी काम में रुचि ना लेना या पढ़ाई में मन ना लगना
  • दुविधा में रहना 
  • असहज भावनाओं को रोकने के लिए पदार्थों (सिगरेट,शराब या अन्य नशीले पदार्थ) का उपयोग करना
  • भूख न लगना या बहुत अधिक खाना

 

जीवन में ट्रॉमा का अनुभव काफी इंसान को काफी असहज बना सकता है। ऐसे में दर्द को समझना, उसका पता लगाना और उसे कम करने की कोशिश करना जरूरी है। इसकी भी एक प्रक्रिया है और हो सकता है कि इसमें कुछ वक्त लगे। कुछ सुझाव अपना सकते हैं, जैसे-

  • दोस्तों, परिवार, प्रियजनों या पेशेवर काउंसलर्स से बात करें
  • सकारात्मक मनोरंजन वाली चीजों में हिस्सा लें,  शारीरिक गतिविधियों जैसे व्यायाम, खेल-कूद, घूमना आदि में व्यस्त रहें।
  • जब बुरे विचार मन हावी हों तो संगीत सुनें।
  • प्राकृतिक शौक अपनाएं, जैसे अच्छी किताबें पढ़े, पेंटिग करें, बागवानी में रुचि लें, आउटडोर खेल खेलें, पालतू जानवर के साथ वक्त बिताएं। 
  • खुद को रिलैक्स रखने के लिए प्राणायाम, मेडिटेशन या खुद से बात करें
  • हेल्दी डाइट लें और पर्याप्त आराम करें 
  • यदि संभव हो तो अपने आस-पास सहायता समूह से जुड़ें।
  • जितना संभव हो एक शेड्यूल बनाए और उसी को फॉलो करें
  • भविष्य के लिए योजना बनाएं। ध्यान रखें इसे किसी लक्ष्य बोर्ड पर टांगे। 
  • जरूरत पड़ने पर मदद मांगने ना कतराएं

ट्रॉमा ऐसी चीज नहीं है, जिसे रात भर में निपट सकते हैं। इसके लिए बस खुद को शांत रखने की, साहस बनाए रखने और चीजों को धैर्यपूर्वक स्वीकार करने की जरूरत है। गहरी सांस लें और जरूरत पड़ने पर किसी से मदद मांगे। इस बात को हमेशा ध्यान रखें कि आप अकेले नहीं हैं। ऐसे कई लोग, स्थान और संगठन हैं जो आपकी परवाह करते हैं और आपके जरिए मांगे गए संसाधनों की पेशकश करना पसंद करेंगे। हीलिंग एक प्रक्रिया है और आप इस यात्रा को पूरा करने में पूरी तरह से सक्षम हैं।

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


What teens need to know about Burnout

Stress and burnout are pretty closely linked, however they are not the same thing. Wondering 'what is burnout?' Find out what the warning signs look like and learn how to prevent yourself from feeling burnt out

Stress puts a lot of pressure on the body. This can be manageable in the short-term, but if it's constant, it can be bad for both your physical health and emotional wellbeing. Eventually, too much stress on your body over a long period of time can cause you to burn out. Burnout is a state of complete mental, physical and emotional exhaustion. Teenagers especially have a lot to do with homework, sports, hanging out with friends, part-time jobs, and other commitments. Many of us are busy preparing for our resume and as we get prepared for adult life, we often miss out on one vital skill – knowing how to relax.

Sings of a Burnout

  • Every day is a bad day.
  • Caring about your work or home life seems like a total waste of energy.
  • You’re exhausted all the time.
  • The majority of your day is spent on tasks you find either mind-numbingly dull or overwhelming.
  • You feel like nothing you do makes a difference or is appreciated.

Burnout is a gradual process. It doesn’t happen overnight, but it can creep up on you. The signs and symptoms are subtle at first, but become worse as time goes on. Think of the early symptoms as red flags that something is wrong that needs to be addressed. If you pay attention and actively reduce your stress, you can prevent a major breakdown. If you ignore them, you’ll eventually burn out.

Physical signs and symptoms of burnout:

  • Feeling tired and drained most of the time
  • Lowered immunity, frequent illnesses
  • Frequent headaches or muscle pain
  • Change in appetite or sleep habits

Emotional signs and symptoms of burnout:

  • Sense of failure and self-doubt
  • Feeling helpless, trapped, and defeated
  • Detachment, feeling alone in the world
  • Loss of motivation
  • An increasingly cynical and negative outlook
  • Decreased satisfaction and sense of accomplishment

Behavioral signs and symptoms of burnout

  • Withdrawing from responsibilities
  • Isolating yourself from others
  • Procrastinating, taking longer to get things done
  • Using food, drugs, or alcohol to cope
  • Taking out your frustrations on others
  • Skipping work or coming in late and leaving early

Lifestyle causes of burnout

  • Being busy all the time, without enough time for socializing or relaxing
  • Lack of close, supportive relationships
  • Taking on too many responsibilities, without enough help from others
  • Not getting enough sleep
  • Personality traits can contribute to burnout
  • Perfectionistic tendencies; nothing is ever good enough
  • Pessimistic view of yourself and the world
  • The need to be in control; reluctance to delegate to others
  • High-achieving, Type A personality

How to deal with Burnout

Reach Out for help

Reach out to those closest to you, such as your partner, family, and friends. Opening up won’t make you a burden to others. In fact, most friends and loved ones will be flattered that you trust them enough to confide in them, and it will only strengthen your friendship. Try not to think about what’s burning you out and make the time you spend with loved ones positive and enjoyable.

Be more sociable with your friends

Try to be friends with people in real life than in virtual. Attend events once in a while, spend quality time with them and develop friendships with people who can help buffer you from burnout.

Limit your contact with negative people

Hanging out with negative-minded people who do nothing but complain will only drag down your mood and outlook. If you have to work with a negative person, try to limit the amount of time you spend together.

Find new friends

If you don’t feel that you have anyone to turn to, it’s never too late to build new friendships and expand your social network.

 

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.