Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

How to know when you need counseling

Know when it is time to seek professional help

People are now more aware of what mental health and well-being are. Thanks to various Media that seeking professional help for counselling is not considered a stigma any more. And with that comes a crucial question, “How to know when do I need a counselor”?

Though medication is also available for treating various mental disorders and can reduce some symptoms of mental health conditions, therapy trains people to address symptoms on their own. Thus, the therapy enables people to develop skills that last after therapy ends and may continue to improve lifelong.

Having a mental health condition is common now, but only 40% of people with mental issues get help. Consequently, untreated mental health issues lead to other negative effects like inability to study or work, difficulty in maintaining relationships, increased risk of health issues, hospitalization and in some cases suicide.

When any type of mental health issue begins to affect our daily life, therapy may be recommended. Therapy helps in learning what you are feeling, why you are feeling so and how to cope with it. Therapy provides a safe space to talk through challenges like breakups, loss, and grief, or family struggles. Contrarily it is believed that people who are forced into therapy may feel resistant to it and find it harder t put in the work needed for their betterment.

Here are a few pointers to see if you need to go to a therapist:

  • You think about coping with the issue or about the issue at least an hour each day
  • You feel embarrassed or avoid others because of the issue
  • The quality of your life has decreased due to the issue
  • Your studies, work, or relationships are affected by the issue
  • You have developed habits or made changes in your life to cope with the issue

If you find any of the following emotions or feelings to the extent that they interfere with your life, therapy may help in reducing their negative effects. It is important to get help if you feel controlled by symptoms or if the symptoms could cause harm to you or others.

Overwhelm

You feel like you have too many things to do or too many issues to deal with. You might feel like you can’t rest or even breathe.

Fatigue

A physical symptom, fatigue, often results from or accompanies mental health issues. Fatigue can cause you to sleep more than usual or have trouble getting out of bed in the morning.

Disproportionate rage, anger, or resentment

It is normal to get angry at times, and even passing rage isn’t necessarily harmful. But it becomes crucial to seek help dealing with these feelings when they don’t pass, or when they lead to violent or potentially harmful actions.

Agoraphobia

People having agoraphobia fear to be in places where they might experience panic attacks or become trapped. Some people may even become unable to leave their houses.

Anxious or intrusive thoughts

It’s common to worry about things from time to time, but when worry takes up a huge part of your day or causes physical symptoms, therapy might help you deal with it.

Hopelessness

Losing hope or feeling as if you have no future can indicate depression or another mental health condition.

Social withdrawal

Many people with mental health issues feel better when they are able to spend at least some time alone. But if you feel distressed around or with others, therapy can help you understand and deal with it.

 

 

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


आत्मसम्मान तब बढ़ता है जब खुद से सहनुभूति रखते हैं

टीनएजर्स अक्सर खुद का आकलन करने की जिद करते हुए देखे जाते हैं और आत्मविश्वास को बनाए रखते हैं। हालांकि ये आत्म-सहनभूति की पावर को बढ़ाने और खुद को उन शक्तियों को याद दिलाने का एक पड़ाव होता है।

टीनएज बच्चे इन दिनों बहुत ज्यादा चिंता, खुद पर संदेह करना, तुलना करना, कॉम्पिटीशन, परफेक्शन में उलझे रहते हैं। जो उन्हें तनाव की ओर ले जा रहा है। ये घटते  आत्म-सम्मान और आत्मविश्वास का कारण बनाते हैं। हालांकि, ये ऐसी चीजें हैं, जिन्हें सही टूल और ट्रिक्स के जरिए कम किया जा सकता है। हम खुद से जो कहते हैं वह महत्वपूर्ण होता है। दूसरे लोग हमें हमारे बारे में क्या बताते हैं और हम क्या अनुभव करते हैं यह मायने नहीं रखता।

यहां कुछ तरीके दिए गए हैं जो आपके आत्मविश्वास को बढ़ाने में मदद करेंगे और आपको याद दिलाएंगे कि आप वास्तव में कौन हैं?
सेंटेंस फॉर्मेशन - हर दिन कम से कम 5 सेंटेंस लिखने की कोशिश करें। वाक्यों इन तरीकों की मदद से लिखें जैसे "मेरे प्रियजन मेरी प्रशंसा करते हैं क्योंकि ...", "मेरी सबसे अच्छी खासियत है ...", "मुझे लगता है कि जब मैं सशक्त हूं ...", "मुझे इससे ताकत मिलती है ...", "मुझे खुद पर गर्व है ..."
आभार व्यक्त करना- हर दिन निम्न वाक्यों को लिखने का प्रयास करें जैसे "आज मैं इसके लिए आभारी हूं...", "मैं ...... का आभारी हूं ..."।, "मैं ... अनुभवों के लिए आभारी हूं।"

एचीवमेंट की लिस्ट बनाएं- सभी छोटी-बड़ी सफलताओं और उपलब्धियों की लिस्ट बनाएं जिन्हें आप अब तक पूरा करने में कामयाब रहे हैं। हाल ही में या भविष्य में पूरा करने के लिए आप जो भी प्लानिंग कर रहे हैं तो उसे भी इस लिस्ट में शामिल करें।

 

दो मिनट - हर दिन दो मिनट अकेले बैठें और खुद की तारीफ करें।
अंदर का आलोचक - जब आप खुद की आलोचना करते हैं तो जमीन से जुड़ते हैं। इसलिए एक मिनट का समय निकालें और खुद का विश्लेषण करें।

 

प्रतिज्ञा- खुद को विश्वास दिलाएं कि आप बेहतर हैं। उदाहरण के लिए आप खुद से कहें कि "मैं आज सकारात्मक महसूस कर रहा हूं"। खुद को सक्षम, रचनात्मक, शक्तिशाली और स्मार्ट बनाने के लिए खुद को याद दिलाते रहें कि आप सही दिशा में हैं। हर सुबह पांच ऐसे वाक्य दोहराएं।
 

विज़ुअलाइज़ेशन - अपने आप को बेहतर समझें। एक डायरी में इससे जुड़ी बातों और विचारों की एक सूची बनाने की कोशिश करें। अपने आप को याद दिलाते रहें कि आप ऐसा महसूस करने में सक्षम हैं और खुद का सबसे अच्छा बना रहे हैं। कल्पना करें, महसूस करें, सफल हों!
 

आत्मविश्वास और आत्म सम्मान ऐसी चीजें हैं जिन्हें अंदरूनी तौर पर संचालित किया जा सकता है। आप जितने सकारात्मक और प्रशंसात्मक हैं, आप उतना ही अच्छा महसूस करते हैं। दूसरों को भी आपको अपने बारे में अच्छा महसूस करने का मौका दें।
अपने आप को एक ऐसी दुनिया तब्दील करें जहां आप खुद के लिए महत्वपूर्ण हैं। आत्मविश्वास भी सहनुभूति और दया से जुड़ा है। अपने आप से ऐसा व्यवहार करें जैसे आप किसी प्रिय मित्र के साथ करेंगे और यह देखेंगे कि आप दुनिया में कैसे आगे बढ़ते हैं।

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.