Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

लाइफ को इफेक्ट करने वाले इमोशंस

फीलिंग्स आते और जाते रहते हैं। बुरी भावनाओं से आपको खुशी महसूस नहीं होगी और जब आप दुखी होंगे तो स्माइल नहीं कर सकते, आइए जानते हैं ऐ्स ही कुछ इमोशंस के बारे में-

जलन (Jealousy)

इ्सग्रीन-आई मॉन्सटर' भी कहा जाता है। आपके पास क्या है, यह उसको अप्प्रेसिअशन नहीं करता, और जो आपके पास नहीं है, उस पर फोक्स करने को मजबूर करता है। जैसे आपके दोस्त ने नया मोबाइल फोन खरीदा और आपको भी खरीदना था, लेकिन नहीं ले पाए तो आपको जलन महसूस होगी। इससे बचने के लिए अपने फोक्स को कहीं और लगाए। इ्स बारे में जागरूक रहें कि आप कौन हैं, कहां से बिलॉन्ग करते हैं और आपके पास जो कुछ है उसके लिए थैंकफुल होना सीखें।

दोष देना (Blame)

अगर किसी ने आपसे कभी मिसबिहैव किया हो या किसी ऐसे काम का दोष आप पर लगाया गया हो, जो आपने नहीं किया तो इससे हर किसी को टेंशन हो सकती है। एक टाइम के बाद हमें अपनी गलतियों की जिम्मेदारी लेना सीखना होगा, ताकि दू्सरों पर दोष डालने से पहले से सोच सकें कि इससे उसके जीवन में कया परिवर्तन होगा। अपने लिए कुछ समय निकाले और मन को शांत रखने के लिए मैडिटेशन करें, अपने थॉट्स को नोट करें और उससे रीड भी करें। इससे आपको आगे क्या करना है इसके बारे में बहुत हद तक हेल्प मिल सकती है।

 

गुस्सा (Anger)

यह एक स्ट्रांग फीलिंग है जो अलग - अलग कारणों से हो सकती है हालांकि, यह सवाल करना जरूरी है कि कोई भी चीज से हमें गुस्सा या नाराजगी क्यों होती है? किसी पर या किसी स्तिथि पर नाराज होना तब तक ठीक है, जब तक उससे किसी को नुक्सान हो, लेकिन चिल्लाना, दू्सरे व्यक्ति या फर्नीचर को मारना और गाली देना एक्सेपट नहीं लकया जा सकता है।

अटैचमेंट (Attachment)

अगर आपका अटैचमेंट अपने परिवार की तरह ही कुछ और लोगो से है, साथ ही कुछ दोसतों के साथ क्लोज्ड अटैचमेंट भी है तो ठीक है, लेकिन ज्यादातर लोगो और चीजों से लगाव रखने से परेशानी पैदा होने लगती हैं। पुरानी चीजों से दूर होने की कोशिश करनी चाहिए, क्यूंकि तभी आप नई चीजों को अपनी लाइफ में एंटर होने के लिए जगह दे पाएंगे। कभी-कभी पुराने रिश्तों को भुलाकर नए रिश्तों को समय देना बेहतर होता है।

 

पछतावा (Regret)

कुछ चीजें या घटनाएं हमारी प्लानिंग के हिसाब से नहीं होतीं जिससे हमें बहुत अफ़सोस होता है- जैसे आपने कभी किसी के लिए कुछ कहा होगा जिसका गलत मतलब निकला गया या आप पेपर में चीटिंग करते पकडे गए और ऐसा करने के लिए आपको भारी कीमत भी चुकानी पडी, क्या ये सब करने के बाद आपको पछतावा हुआ? जब चीजें प्लान के रूप में काम नहीं करती हैं, परेशानियों का सामना करना पडता है जिससे बाद में पछतावा होता है। इ्स एक्सपीरियंस से आपने कया सबक सीखा है, इ्सके बारे में सोचें, आपको क्या करना चाहिए, आपको क्या नहीं करना चाहिए इन सब बातों को ध्यान में रखकर आगे बढ़ना चाहिए जिससे आगे कोई पछतावा हो।

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


Ways to overcome Public Fear

What is Social anxiety or Public fear?

What is Social anxiety or Public fear?

Fear of public speaking is a common form of anxiety which ranges from slight nervousness to paralyzing fear and panic. Many individuals with this fear avoid public speaking situations altogether, or they suffer through them with shaking hands and a quavering voice. But with preparation and persistence, one can overcome this fear.

Nervousness or anxiety in certain situations is normal, and public speaking is no exception. Known as performance anxiety, other examples include stage fright, test anxiety and writer's block. But people with severe performance anxiety that includes significant anxiety in other social situations may have social anxiety disorder. If you can't overcome your fear with practice alone, consider seeking professional help.

How you can control your Public fear:

1. Know your Topic well. The better you understand your topic the fewer mistakes you will make.

2. Get organized in terms of planning out the information you want to present, including any props, audio or visual aids. If possible, visit the place where you'll be speaking and review available equipment before your presentation.

3. Practice your complete presentation several times. Consider making a video of your presentation so you can watch it and see opportunities for improvement.

4. Do some deep breathing before you get to the podium and during your speech. 5. Focus on your material and not on your audience. People mainly pay attention to new information — not how it's presented.

6. Don’t fear a moment of silence. Even if it's longer, it's likely your audience won't mind a pause to consider what you've been saying. Just take a few slow, deep breaths.

7. Recognize your success by giving yourself a pat on the back after finishing your presentation or speech. Everyone makes mistakes. Look at any mistakes you made as an opportunity to improve your skills.

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.