लॉग इन करें
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

भरपूर नींद लेना

रिसर्चर बताते हैं कि एक टीनएजर को हर दिन आठ से दस घंटे की नींद लेना चाहिए, यानी बच्चों और एडल्ट्स से भी ज़्यादा। लेकिन आयरनी की बात है कि टीन्स अपनी इसको लेकर लापरवाही बरतते हैं और भरपूर नींद नहीं लेते

बहतेरे टीनएजर्स जितना ज़रूरी है, उतनी देर सोते नहीं हैं। इसके सामान्यतया दो कारण होते हैं, या तो उनके शेड्यूल ओवरलोडेड होते हैं, या वे इंटरनेट पर ज़रूरत से ज़्यादा समय बिताते हैं, कभी-कभी तो पूरी रात। जो भी वजह हो, अगर आप नींद पूरी नहीं लेते हैं तो इससे आप स्लीप डेफ़िसिट के शिकार हो सकते हैं और आपको कंसंट्रेशन, पढ़ाई या दूसरी फ़िज़िकल एक्टिविटीज़ में दिक़्क़तें आ सकती हैं। स्लीप डेफ़िसिट से डिप्रेशन भी हो सकता है।

तो रातों को भरपूर नींद लेने के लिए क्या करें? हमारे टीनटॉक एक्सपर्ट की तरफ़ से इस बारे में आपके लिए ये कुछ टिप्स :

अपना शेड्यूल तय करें : हर रात एक तय समय पर सोने जाएं और हर सुबह तय समय पर उठें। इस शेड्यूल के साथ छेड़खानी करने पर आप इनसोमनिया के शिकार हो सकते हैं। अगर मुमकिन हो सके तो रात में काम करना अवॉइड करें। साथ ही आल्टरनेट शेड्यूल्स या इस जैसी चीज़ों से भी बचें, जो आपकी नींद पर असर डाल सकती हैं।

कैफ़ीन, निकोटिन और अल्कोहल से बचें : सोने के कम से कम आठ घंटे पहले तक स्मोकिंग करने या कैफ़ीन लेने से बचें। कॉफ़ी, चॉकलेट, सॉफ़्ट ड्रिंक्स आदि में कैफ़ीन पाया जाता है। साथ ही सोने से पहले हलका भोजन ही करें।

सोने से पहले रिलैक्स हो जाएं : गर्म पानी से नहाना, कुछ पढ़ना या ऐसा ही कोई दूसरा रिलैक्सिंग रूटीन आपको नींद में आग़ोश में ले जाने में मददगार होगा।

बेड में लेटे ना रहें : अगर आप सो नहीं पा रहे हैं तो बेड में लेटे ना रहें। इसके बजाय कुछ करें, जैसे पढ़ना या टीवी देखना, या म्यूज़िक सुनना, जब तक कि आप थककर सो ना जाएं।

अपने बेडरूम के एटमॉस्फ़ीयर को कंट्रोल करें : जैसे कि कम्फ़र्टेबल बेडिंग का इस्तेमाल करें, शोर कम से कम रखें, टेम्प्रेचर को कम्फ़र्टेबल रखें, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स से दूर रहें।

इनके अलावा रोज़ 15 से 20 मिनट का समय किसी फ़िज़िकल एक्सरसाइज़ के लिए निकालें, ऐसा खाना खाएं जो नींद की क्वालिटी को बढ़ाए, जैसे पाइनएप्पल, डार्क चॉकलेट्स आदि। यह वैसे इतना आसान नहीं है, क्योंकि इनसोमनिया का ट्रीटमेंट करने का मतलब है अपनी स्लीप हाइजीन को इम्प्रूव करना और ऐसे आदतें विकसित करना, जो अच्छी नींद के अनुकूल हैं। लेकिन यह नामुमकिन नहीं है, क्योंकि बहुतरे स्लीप डिसऑर्डर्स को प्रभावी रूप से ट्रीट किया जा सकता है। 
 

यदि आपके पास भी हमसे शेयर करने के लिए कोई कहानी है तो हमें यहां , ईमेल करें

यदि आपके पास कोई सवाल हैं, तो हमें यहां , ईमेल करें

आप क्लिक करके काउंसलर से भी बात कर सकते हैं टीनटॉक एक्सपर्ट चैट.

Comments

अगली कहानी


तीन आसान तरीके से अंग्रेजी के डर को कर सकते हैं दूर

कुछ लोगों के लिए नई भाषा से जुड़े शब्दों को सीखने के लिए कॉन्फिडेंस का होना जरूरी होता है। लेकिन कुछ लोगों के लिए, विदेशी भाषा में बात करना डरावना साबित होता है।
Gousiya Teentalkindia Content Writer

जब भी हमारे पास खुद को बयां करने के लिए शब्द नहीं होते हैं तो हम उस बच्चे की महसूस करते हैं जो अपने सामने चंद लोगों को देखकर झेंप जाता है। ऐसा वो लोग भी महसूस करते हैं जिन्होंने कभी भी खुद की आलोचना ना सुनी हो और गरिमा बनाए रखने के लिए मन ही मन संघर्ष कर रहे होते हैं। कुछ आसान तरीकों से आप नर्वसनेस दूर कर सकते हैं जो नई भाषा को बोलने पर आप महसूस करते हैं, खासकर अंग्रेजी बोलने के दौरान...

जो लोग आसानी से अंग्रेजी नहीं बोल पाते हैं उनके दिमाग में एक ही आवाज गूंजती है कि चाहे कुछ भी हो जाए कुछ नहीं बोलना है क्योंकि मैं मूर्ख साबित हो जाऊंगा। अफसोस की बात है कई लोग अपने दिमाग की उपज को सुन भी लेते हैं। वो ये मान लेते हैं कि आलोचना होना तय है। यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं जो अंग्रेजी के डर को दूर करने में मदद करेंगे।

अपने डर को जानो
ऐसा क्या है जिससे आप डरते हैं? चिंता तब बढ़ती है जब अंग्रेजी बोलने के दौरान फेल होने का डर सताता है या नकारात्मक मूल्यांकन होता है। अगर इंटरव्यू या किसी से बात करने के दौरान मुंह से कुछ अजीब या अलग शब्द निकल जाता है तो डर लगता है। इससे लड़ने के लिए, खुद से पूछें विदेशी लोग आपकी भाषा बोलने से पहले कितना प्रयास करते हैं। उम्मीद है, आपका जवाब नकारात्मक नहीं होगा और न ही कुछ गलत सोचेंगे।

ध्यान से सुनें
उन लोगों के साथ अंग्रेजी में बोलें जिनके साथ आप सहज महसूस करते हैं और जिनकी इस भाषा पर अच्छी कमांड है। अंग्रेजी गाने सुनें, अच्छी अंग्रेजी फिल्में या टीवी शोज देखें और अंग्रेजी में बातचीत (यूट्यूब पर उपलब्ध) पर भी ध्यान दें।

भाषा पर काम करें
अपनी शब्दावली बनाएं और व्याकरण सीखें। आप इसकी शुरुआत अंग्रेजी में अभिवादन करना सीखने से कर सकते हैं। इसके बाद जानवरों, फलों, वाहनों, बर्तनों जैसी अलग-अलग तरह की चीजों के नाम अंग्रेजी में जानें। साथ ही अंग्रेजी भाषा में कहावत और प्रसिद्ध बातें सीखने की कोशिश करें।

अपना आत्मविश्वास बनाए रखें और इसे केवल एक भाषा की ही तरह समझें। इसे रॉकेट साइंस समझने की गलती नाकरें। लाओ त्ज़ु के एक वाक्य से इसे समझें - 'एक हज़ार मील की यात्रा एक कदम से शुरू होती है और यह एक उत्कृष्ट पहला कदम है।'

यदि आपके पास भी हमसे शेयर करने के लिए कोई कहानी है तो हमें यहां , ईमेल करें

यदि आपके पास कोई सवाल हैं, तो हमें यहां , ईमेल करें.

आप क्लिक करके काउंसलर से भी बात कर सकते हैं टीनटॉक एक्सपर्ट चैट.

टिप्पणियाँ

कॉपीराइट टीनटॉक 2018-2019
डिस्क्लेमर : टीनटॉकइंडिया आपातकालीन सेवाएं नहीं प्रदान करता है और न ही यह किसी तरह की आपदा में हस्तक्षेप करने वाला कोई केंद्र है। अगर आप या आपका कोई मित्र या परिचित गहरे अवसाद के दौर से गुज़र रहा है, या उसके मन में आत्महत्या या स्वयं को नुक़सान पहुंचाने वाले विचार आ रहे हैं तो कृपया निकटस्थ अस्पताल या आपातकालीन/आपदा प्रबंधन सेवा केंद्र या हेल्पलाइन से सम्पर्क करें।