लॉग इन करें
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

यूपीएससी के लिए तैयारी कैसे करें?

आईएएस लाखों युवाओं के सपनों का कॅरियर है। आईएएस में सलेक्ट होने के लिए आपको सिविल सर्विस एग्जाम में बैठने की ज़रूरत होती है। यदि आप यूपीएससी के एग्जाम के लिए पढ़ाई कर रहे हैं, तो यहां आपके लिए कुछ महत्वपूर्ण तारीखें और स्ट्रेटजी बतायी जा रही हैं।

यूपीएससी एग्जाम के ऑफिसियल कैलेंडर के हिसाब से सिविल सर्विस की प्रारंभिक परीक्षा ऑब्जेक्टिव टाइप होती है।

अक्सर कैंडिडेट्स को यूपीएससी सिविल सेवा एग्जात को पास करना बहुत कठिन लगता है। इस डर का मुख्य कारण कड़ी मेहनत या क्षमता की कमी नहीं है, बल्कि सही स्ट्रेटजी और स्मार्ट एप्रोच होना ज़रूरी है। इसके लिए आपके पास एक प्रॉपर प्लानिंग होनी चाहिए। कुछ प्रभावी टिप्स निम्नानुसार हैं:

  • पॉजीटिव माइंडसेट और प्रेक्टिकल स्ट्रेटजी रखिए। आपको सबकुछ जानने की ज़रूरत नहीं है। अपने सोर्स सीमित रखें और उन पर भरोसा करें।
  • आपको यूपीएससी एग्जाम के नेचर को जानना होगा। किस चीज पर फोकस करना है और किस पर नहीं। अपने एग्जाम के सिलेबस को अच्छी तरह से समझ लें। उदाहरण के लिए, मॉडर्न इंडिया, एनवायरनमेंट, पॉलिटी से 2017 और 2018 के प्रीलिम्स में जीएस क्वेश्चन पेपर का 35-40% हिस्सा आया है। इस प्रकार, सिलेबस के इन पार्ट्स पर फोकस करना होगा।
  • एग्जाम का नेचर बहुत ज्यादा डायनमिक हो गया मगर सिलेबस अब भी सेम है। इसलिए, बेसिक को समझने के लिए एनसीईआरटी और स्टैंडर्ड बुक्स को अच्छी तरह से समझकर तैयार करने की सलाह दी जाती है।
  • स्मार्ट वर्क आपकी तैयारी की तारीफ करेगा। न्यूजपेपर आपकी तैयारी का सबसे ज़रूरी हिस्सा है और यह छूटना नहीं चाहिए। नियमित रूप से न्यूजपेपर पढ़ें। आपको न्यूज को सिलेबस और क्वेश्चन फ्रेम करने और उससे संबंधित रिस्पॉन्स को लेकर इंटलेक्चुअल वर्कआउट इन पर करना चाहिए।
  • सिर्फ प्रीलिम्स की नहीं, सिर्फ मैन्स के एग्जाम लिए तैयारी करें। प्रीलिम्नरी से लेकर इंटरव्यू तक यह इंट्रीग्रेटेड प्रोसेस है। इस तरह एक इंट्रीग्रेटेड एप्रोच का होना ज़रूरी है। इसके अलावा क्वेश्चन का नेचर बदलने के कारण कैंडिडेट्स को ज्यादा एनालिटिकल होना चाहिए जो सिर्फ कॉम्प्रिहेंसिव रीडिंग के माध्यम से ही संभव है।

बहुत ज्यादा प्रेक्टिस करें पिछले 10 सालों के क्वेश्चन पेपर सॉल्व करें। यह आपको किसी क्वेश्चन का आन्सर लिखने के लिए एप्रोचर को समझने, एंग्जाइटी को कम करने, प्रेशर और नर्वसनेस को कंट्रोल करने में मदद करेगी।

यदि आपके पास भी हमसे शेयर करने के लिए कोई कहानी है तो हमें यहां , ईमेल करें

यदि आपके पास कोई सवाल हैं, तो हमें यहां , ईमेल करें

आप क्लिक करके काउंसलर से भी बात कर सकते हैं टीनटॉक एक्सपर्ट चैट.

Comments

अगली कहानी


Gousiya Teentalkindia Content Writer

यदि आपके पास भी हमसे शेयर करने के लिए कोई कहानी है तो हमें यहां , ईमेल करें

यदि आपके पास कोई सवाल हैं, तो हमें यहां , ईमेल करें.

आप क्लिक करके काउंसलर से भी बात कर सकते हैं टीनटॉक एक्सपर्ट चैट.

टिप्पणियाँ

कॉपीराइट टीनटॉक 2018-2019
डिस्क्लेमर : टीनटॉकइंडिया आपातकालीन सेवाएं नहीं प्रदान करता है और न ही यह किसी तरह की आपदा में हस्तक्षेप करने वाला कोई केंद्र है। अगर आप या आपका कोई मित्र या परिचित गहरे अवसाद के दौर से गुज़र रहा है, या उसके मन में आत्महत्या या स्वयं को नुक़सान पहुंचाने वाले विचार आ रहे हैं तो कृपया निकटस्थ अस्पताल या आपातकालीन/आपदा प्रबंधन सेवा केंद्र या हेल्पलाइन से सम्पर्क करें।