Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

Career in Sports management - a new field

If you are fond of sports, then there are many opportunities in sports management

Most people who are fond of playing or wish to make a career in the field of sports and represent the country as a player in national or international tournaments. But now this is not the only way to be a part of this field. With the advent of many sports events in India like Indian Premier League, Hockey Premier League, Indian Super League, Pro Kabaddi League, there is a demand for athletes who are not only aware of the game but are also good in organizing matches. Who can work from monitoring team finances and negotiating athletes' contracts too. In short, now the demand for sports managers to manage all aspects of business and governance related to sports at all levels is starting to be on a large scale.

For Top Institutes-BBA-BA

  • National Academy of Sports Management, Mumbai
  • George College, Kolkata Maulana Abdul Kalam Azad Uni. Of technology, P. Bengal
  • International Institute of Sports Management (IISM), Mumbai
  • Symbiosis Institute of Management Studies, Pune
  • Indian Institute of Management, Indore
  • Institute for MBA-Masters Degree
  • National Academy of Sports Management, Mumbai
  • Indian Institute of Social Welfare and Business Management, Kolkata
  • International Institute of Sports Management, Mumbai
  • Institute of Sports Management (IIST), Pune
  • Tamil Nadu Physical Education and Sports Uni., Chennai
  • Laxmibai National Uni. Of Physical Education, Gwalior

This is how you can plan your career in this field:

Step 1:

Choose any stream after 10th standard to make a career in sports management. You do not need to choose a particular subject stream in the 11th. Experts, however, recommend taking a commerce stream as studying subjects such as Business Studies, Economics, Accountancy helps you to understand business processes in-depth and know the issues related to global business.

Step 2: Graduation in BBA / Sports Management

For starters, it would be right to do BA / BBA in Sports Management after 12th. In these three-year professional courses, students get a chance to handle professional projects themselves. Also, knowledge related to the industry is given, from which they learn to focus on marketing management, sports planning, and funding, sports law, ethics, risk management, etc.

Step 3: Getting a Masters degree will benefit

To make a place in a professional workplace, a master's degree is necessary. Some institutes offer MBA and some masters degrees and diplomas in sports management. PG not only gets the theatrical knowledge of sports but also students are equipped with better managerial skills, which will benefit them in jobs related to sports marketing, sports media, sports apparel.

Major Career Opportunities

After obtaining a degree in sports management, you can find a career in these professional opportunities in the world of sports.

Sports agents: Sports agents handle athletes' legal contracts and their finances and endorsement deals. A sports agent's salary depends on which athlete they are working for and how much industry experience they have. Generally, the salary can range from Rs 25,000 to Rs 70,000 per month.

Sports Information Director: These professionals work with sports teams and media outlets and strengthen public relations through positive media coverage. After enough experience, you can get a salary ranging from 40,000 to 70,000 rupees per month.

Sports Marketing Manager: In addition to helping promote and sponsor marketing sports events, it also plays an important role in creating brand loyalty. These professionals work not with the athletes but with the sports companies with which the team is associated. As a sports marketing manager, you can earn from 50,000 to 80,000 per month.

Sports Event Manager: They have to identify the audiences and brands that can be associated with them. Apart from planning the event, one has to pay attention to its maintenance, staff, logistics and technical details. The average income is 36,000 which increases with experience.

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


सेल्स के क्षेत्र में बेहतर करियर बनाने में मददगार हो सकती हैं ये स्किल

सेल्स का सबसे बढ़िया तरीका ज्यादा से ज्यादा लोगों से जुड़ना और उनकी जरूरतों को समझना है। इसके बाद ही आप ग्राहकों के सामने अपने उत्पाद की उपयोगिता को सिद्ध कर पाएंगे।

किसी की भी कंपनी में सेल्स का काम देखने वाले प्रोफेशनल तय किए गए टार्गेट पूरा करते हैं, जो कमाई का बड़ा जरिया होता है। ये प्रोफेशनल आमतौर पर प्रोडक्ट की बिक्री के लिए तैयार की गई रणनीति पर काम करते हैं। हालांकि कई बार सेल्स और मार्केटिंग को एक ही मान लिया जाता है, लेकिन ये दोनों बिल्कुल ही अलग हैं और इसे लेकर भ्रमित नहीं होना चाहिए। सेल्स के क्षेत्र में काम करने वाले प्रोफेशनल फील्ड में काम करते हैं और टार्गेट पूरा करने का काम करते हैं, जबकि मार्केटिंग के क्षेत्र में काम करने वाले प्रोफेशनल क्रिएटिव तरीकों का उपयोग कर रणनीति तैयार करने का काम करते हैं।

ये कुछ स्किल हैं, जो बेहतर सेल्समैन बनने में मदद कर सकती हैं। 

प्रभावित करने की क्षमता 

- सेल्स के क्षेत्र में बेहतर करियर बनाने के लिए आपको हमेशा दिए गए टार्गेट पूरा करना जरूरी है। इसके अलावा यदि आप और भी अच्छा करते हैं, तो यह आपके लिए फायदेमंद होगा। 
- इसके लिए आपको अपने ग्राहक को प्रभावित करना होता और प्रोडक्ट पर यकीन करवाना होता है। हालांकि यह आसान काम नहीं है। यहीं अपनी बातों और तर्कों के माध्यम से प्रभावित करने की क्षमता काम आती है। 
- इसमें कम्युनिकेशन स्किल की भूमिका भी महत्वपूर्ण होती है। इसका सबसे बढ़िया तरीका ज्यादा से ज्यादा लोगों से जुड़ना और उनकी जरूरतों को समझना है। 
- इसके बाद ही आप ग्राहकों के सामने अपने उत्पाद की उपयोगिता को सिद्ध कर पाएंगे। अपने उत्पाद को लोगों के समक्ष समस्या के हल के रूप में प्रस्तुत करने की जरूरत होती है।

ग्राहक की मानसिकता समझना 

- सेल्समैन के लिए ग्राहक को समझना जरूरी है। यह जानना आवश्यक है कि जिस प्रोडक्ट की मार्केटिंग आप कर रहे हैं, उसे लेकर ग्राहक की क्या राय है। 
- क्षेत्र, भाषा, आयु के आधार पर ग्राहकों की सोच अलग-अलग हो सकती है। उनकी प्राथमिकता को समझ कर प्रभावी तरीके से अपनी बात रख पाएंगे। 

डेटा जुटाना और इसके आधार पर रणनीति तैयार करना 

- कई कंपनीयां सेल्स में बढ़ोतरी करने और अपना विस्तार करने के लिए टेक्नोलॉजी की मदद ले रही हैं। ऐसे में सेल्स टीम को विभिन्न टेक्नोलॉजी जैसे साआरएम सॉफ्टवेयर, आईटी स्किल, एक्सेल और पावर पॉइंट के बारे में पता होना चाहिए। इसके लिए अलावा सेल्स के लिए उपयोग होने वाले अलग-अलग तरीकों के बारे में भी जानकारी महत्वपूर्ण होती है। इससे सेल्स मैन को आगे की रणनीति बनाने में मदद मिलती है। 
- आमतौर पर सेल्समैन के दिन की शुरुआत टार्गेट लिस्ट तैयार करने और मार्केट के नए ट्रेंड के बारे में पता लगाने से होती है। सेल्समैन की टीम मीटिंग कर आगे की योजना तैयार करती है और इसके बाद विभिन्न क्लाइंट या ग्राहक से जुड़ने के काम में लग जाती है।
-  वे फोन और ईमेल के माध्यम से कॉन्टेक्ट करते हैं और उन्हें प्रोडक्ट या सर्विस खरीदने के लिए पिच करते हैं। इसके बाद वे अपने मैनेजर को दिनभर की सेल्स और प्रक्रिया के बारे में जानकारी देते हैं। सेल्स टार्गेट पूरा करने का जुनून ही सेल्समैन को बेहतर करियर बनाने में मदद करता है।

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.