Log In
This site is not collecting any personalized information for ad serving or for personalization. We do not share any information/cookie data about the user with any third party.OK  NO

कॉमर्शियल पायलट बनकर पहुंच सकते हैं नई ऊंचाइयों पर

कॅरिअर का यह ऑप्शन अपनाना चाहते हैं तो बारहवीं में मैथ्स, फिजिक्स और केमिस्ट्री पढ़ने होंगे।

भारत में एविएशन इंडस्ट्री 18.5 प्रतिशत की अप्रत्याशित दर से बढ़ रही है, साथ ही आगामी 15 से 20 वर्षों में सरकार भी 200 नए एयरपोर्ट तैयार करने की योजना बना रही है। इसका सीधा-सा मतलब है कि इस क्षेत्र में रोजगार के अभी बहुत-से विकल्पों की संभावनाएं बाकी हैं। इस क्षेत्र के सबसे अधिक पे-रोल वाले जॉब्स में कॉमर्शियल पायलट भी शामिल है। यह एक आकर्षक कॅरिअर होने के साथ ही प्रॉमिसिंग ऑप्शन भी है।

एक लाइसेंसशुदा कॉमर्शियल पायलट को एयरक्राफ्ट उड़ाने के लिए भुगतान किया जाता है। हालांकि जरूरी नहीं  कि एक कॉमर्शियल पायलट, एयरलाइन पायलट के रूप में ही काम करे, बल्कि वे कार्गो पायलट, टूर पायलट या बैककंट्री पायलट की भूमिकाएं भी निभा सकते हैं। इसके साथ ही फ्लाइट इंस्ट्रक्टर्स, फेरी या ग्लाइडर टो पायलट जैसे रोल्स भी इनके लिए ही उपलब्ध होते हैं।

कैसे बन सकते हैं पायलट
- कॉमर्शियल पायलट किसी एयरलाइन के लिए विशेष एयरक्राफ्ट उड़ाने की योग्यता रखते हैं। इसके लिए लाइसेंस की आवश्यकता पड़ती है। भारत में डायरेक्ट्रेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए), नागरिक उड्डयन मंत्रालय के तहत नागरिक उड्डयन के लिए सरकारी रेगुलेटरी बॉडी है, जो यह लाइसेंस जारी करती है। एविएशन क्षेत्र को कॅरिअर के रूप में अपनाने के लिए आपके पास बारहवीं क्लास में फिजिक्स, मैथ्स और केमिस्ट्री के साथ साइंस स्ट्रीम होनी आवश्यक है। स्टूडेंट पायलट लाइसेंस के लिए कैंडिडेट्स की उम्र कम से कम 16 साल होनी जरूरी है, वहीं प्राइवेट पायलट लाइसेंस के लिए यह कम से कम 17 साल है। कॉमर्शियल पायलट लाइसेंस 18 वर्ष से कम उम्र के कैंडिडेट्स को नहीं दिया जा सकता।

दो स्टेप में पूरी होती है प्रक्रिया

स्टेप 1
- सबसे पहले आपको किसी फ्लाइंग स्कूल से एविएशन में बीएससी करनी होगी। इस कोर्स में एडमिशन के लिए आपको इस प्रक्रिया से गुजरना होगा- 

लिखित परीक्षा : 10+2 स्टडी मटीरियल पर आधारित इस परीक्षा में इंग्लिश, मैथ्स, फिजिक्स और रीजनिंग शामिल किए जाते हैं।

पायलट एप्टीट्यूड टेस्ट :
- यह टेस्ट एयर रेगुलेशन, एयर नेविगेशन, एविएशन, मीटियरोलॉजी, एयरक्राफ्ट और इंजन नॉलेज जैसे विषयोंपर आपकी पकड़कितनी है, यह जांचने के लिए लिया जाता है।

पर्सनल इंटरव्यू और डीजीसीए मेडिकल एग्जाम :
लिखित परीक्षा पास करने वाले उम्मीदवारों को मेडिकल एग्जाम प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है, जिसका आयोजन डीजीसीए की ओर से किया जाता है।

स्टेप 2
स्टूडेंट पायलट लाइसेंस प्राप्त करना :
यह लाइसेंस प्राप्त करने के लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम और ओरल टेस्ट देने पड़ते हैं। ये एग्जाम्स एविएशन स्कूल के चीफ इंस्ट्रक्टर या डीजीसीए के प्रतिनिधि की ओर से आयोजित किए जाते हैं। यह लाइसेंस प्राप्त करने के बाद आप फ्लाइंग ट्रेंनिंग का हिस्सा बन सकते हैं, साथ ही यह लाइसेंस आपको ग्लाइडर्सपर फ्लाइट टेक ऑफ करने या फ्लाइंग क्लब्स से मान्यता प्राप्त छोटे प्लेन्स उड़ाने की योग्यता प्रदान करता है। कैंडिडेट्स ध्यान रखें कि कोर्स कम्प्लीट करने के साथ ही एक कॉमर्शियल पायलट के लिए कम से कम 250 घंटे की फ्लाइट भी कम्प्लीट हो जाना जरूरी है, क्योंकि इतनी उड़ान पूरी करने के बाद ही आप कॉमर्शियल पायलट लाइसेंस के लिए अप्लाई कर सकते है।

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

NEXT STORY


Opportunities in agriculture for management students

Agriculture is an important contributor to the economy of the country. It has 17.5 percent stake in GDP

Agriculture Management has emerged as a better alternative to career by introducing new technologies in agriculture and expansion of the agro-based industry. Agro products are also increasing in the country's agricultural exports. Know about it ...

Agriculture is an important contributor to the economy of the country. It has 17.5 percent stake in GDP. It also contributes to the supply of raw materials in various sectors of the country. There have been many fundamental changes in recent years in agriculture. The agriculture sector is also not insulated from new trends of globalization. At present, agriculture is not limited to food production, but it is also playing an important role in the business sector. With increasing production of agricultural-based products, new options for careers are coming out in this area. New employment opportunities have arisen in the field of agriculture.

The companies, who do business transactions with farmers, have entered the field of agriculture. Whether these transactions were done in the form of a product or service. Similarly, farming seeds, pesticides, and distribution, loans for farming, agricultural insurance, preservation and processing of agricultural products are also involved in agribusiness. Simply put, the field of agribusiness has everything from farming to the marketing of agricultural products. In developing countries like India, agribusiness can be divided into four parts - investment, production, processing, and marketing. In India, about 20 to 30 percent of food items and about 30 percent of fruits and vegetables are wasted every year due to flood, insect infection and storage facilities. In this way, the demand for agribusiness management has increased to promote more yield and hence, there are new options for professionals in the management field.

Eligibility

Agriculture Business Management courses are at the postgraduate level. Anyone with a bachelor degree in dairy, food, agriculture engineering or related stream can take admission in this PG Course. To get admission, scores in exams such as CAT, XAT, MAT, CMAT are required. Some institutes also organize their own entrance test. They can also take admission in Ph.D. course for further studies.

Job Prospect

There is a shortage of professionals due to the low number of students doing this course. Students doing agribusiness management courses can work in warehousing, retail, seeds, fertilizers and pesticides companies, banks and insurance sectors. In addition, they can work as management experts, policymakers and education institutions.

Earning

In this area, the salary package can be different according to the institution. In the field of agribusiness management, the fresher can get a package of 15 thousand to 20 thousand rupees per month. After a few years of experience, the annual salary package can be up to Rs 6 lakh per month. Graduate students from big institutions such as IIMs are likely to get more package in the beginning.

Major institutes

- IIM, Lucknow https://www.iiml.ac.in

- IIM, Ahmedabad www.iimahd.ernet.in

- Manage, Hyderabad www.manage.gov.in

- IABM, Bikaner www.iabmbikaner.org

If you have a story to share, Email it to us HERE.

If you have a query, Email it to us HERE.

You can also chat with the counsellor by clicking on Teentalk Expert Chat.

Comments

Copyright TEENTALK 2018-2019
Disclaimer: TeentalkIndia does not offer emergency services and is not a crisis intervention centre, if you or someone you know is experiencing acute distress or is suicidal/self harming, please contact the nearest hospital or emergency/crisis management services or helplines.